Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Brahmand Vikhandan from Aakhiri Rakshak Series

 Review - Brahmand Vikhandan 
 Aakhiri Rakshak Series | Raj Comics 


Rate Please: 



Review-Brahmand-Vikhandan--Pic-1My Ratings: 3.5 

RC Official Rating: N/A 




Sr.No/Code: SPCL-2609-H
ISBN: 9789332427136
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Nitin Mishra
Penciler: Tadam
Inker: Vinod Kumar
Colorist: Basant Panda
Pages: 64
Price:Rs 60/-






Neither the universe fragmentation had occurred, nor is going to be. But yeah, Nagraj was fragmented and now he has rebuilt his body again. "The Aakhiri Rakshak Express" has now reached to the sixth station, the 'Brahmand Vikhandan'. Like the past few stations, this station has also been an increase in passenger traffic. And that is why the "Aakhiri Rakshak Express" is delayed in reaching its destination. Well, if you have reserved your seats, then you can enjoy this journey.


Review Brahmand Vikhandan:

Brahmand Vikhandan the sixth part of the Aakhri Rakshak Series. We will talk about it later, first of all, somebody please tell me. Is it really the Aakhiri Rakshak Series? I think it is not!!! The name of the series is "Aakhiri Rakshak", but just except the first part, every part of rest of the series is full of Rakshak's (protectors). And in this part, a protector of ancient time has joined the club too. Most of the superheroes of Raj Comics Universe are present in this series. Then, how could we call it "Aakhiri Rakshak Series"? Not only the Superheroes but the older Villains are also beginning to appear in this series. Characters seem crowded in this series.


Well, let's move forward and discuss the comic Brahmand Vikhandan. The story was started from planet earth, where not only human but the entire wildlife had disappeared from the earth. Only two protectors/superheroes were left on earth. Perhaps that's why the series was named 'Aakhiri Rakshak Series'. But now it seems that the author has got entangled in his own story. The "Aakhiri Rakshak Series' has now turned into "Multi-Protector Series" and the author is now started playing with the aliens.

Come to the story, in the story everything else is fine just except the 'Nagraj vs Vikrit' and the part of 'Bhediya-Shakti' story. In Nagraj versus Vikrit fight, Nagraj was saved just because of his good fortune, otherwise......I am not saying that Vikrit is shown more powerful, I'm trying to say that Nagraj is shown excessively weak. War in the outer space, helpless Nagraj, Parmanu come with the meteors, Dhruv went somewhere in a light beam, there was nothing special in all this. The body of Nagraj gets disintegrated and imploded in the infinite universe, this was not the biggest disappointment. That scene was very disappointing when Parmanu was passing there along with the meteors and it creates a gravitational field. This gravity gathered all the particles of Nagraj's body, and Nagraj immediately rebuilds his body. Nagraj’s body particles were gathered quite easily, which were scattered far and wide in the infinite universe. This was really amazing but unexpected.
In the part of "Bhediya-Shakti" story, the tribal seem to be excessively powerful. To eliminate these giant tribal, birds, and animals, I think Bhediya his wolf army and his mace was enough. But now along with Shakti, Bhediya, Vanputra and Dhruva, a few old villains also have been forced to come in order to deal with these tribal. I agree that the tribal are hostage to black shadow, and this black shadow has the mental abilities and is extremely powerful. But still, all this sounds too much.

The artwork of 'Brahmand Vikhandan' comic is much better than the early comics of 'Aakhiri Rakshak Series', but still needs considerable improvement. Some pages look like of the Hasya-Hindola comic. I mean, instead of real-looking they look like the cartoons. The artwork is absolutely great in the "Anthony-Pret Uncle" part of the story, and in Tretayug (Prachanda's story). 

For Dialogues I have nothing special to say, dialogue are simple and straightforward. A little humor has been added to the story, which is just OK.

Downsides of the Comic Brahmand Vikhandan:

  • Nagraj takes Vikrit to the outer space, and how he reached? Nagraj is flying. As far as I remember, Nagraj can't fly. Man, when was the powers of Nagraj had been upgraded, should have told to the readers.
  • Nagraj says himself, "Ideally, the body of Professor (see-thru/Vikrit) should implode in the space, but that did not happen. It means an unknown power is protecting his body”. But here another notable point is, why didn't the same happens to Nagraj? After all, he is also a human being.
  • When Parmanu was going towards the sun with the meteors, it creates a gravitational field. This gravity gathered all the particles of Nagraj's body, and Nagraj immediately rebuilds his body. Soon after this, the fight has started again between Nagraj and Vikrit. Then suddenly a light beam passed through there, and Dhruva is shown inside it. It means that this incident would happen just after that incident, when Parmanu, Dhruva, and Kaara were attacked by aliens (Brahmand Yoddha) in Delhi and Dhruva had transfused. Here the notable point is, between these two incidents which occurred in the space, there is just a gap of at most 10-12 frames (hardly 10-15 minutes). The first incident when Parmanu goes towards the sun with the meteors and Nagraj rebuilds his body. The second incident, a light beam passed through there, in which Dhruva is shown. While between the Parmanu meteors incident and the transfusion of Dhruva, there were lots of incidents happened on the earth. Most importantly, Parmanu gets unconscious just after dealing with the meteors. Parmanu, Dhruva, and Kaara had reached Cape Town, where they found aliens. After that, they were attacked by Mektriam combaters of Mektriam planet. Then from Cape Town they all three went to Delhi, and then finally Dhruva had transfused in Delhi. My only purpose of telling the whole story is, the author made a mistake while calculating the time gap between these two incidents. The time calculation by the author is inaccurate. The author did a good effort to connect incidents with each other. But the time interval between occurrences is wrong.
  • Well, in the above mentioned scene one more point is notable. What would be the speed of the light beam? If I guess right, then Dhruva gets transfuse and traveled through the light beam and then he reached to the divine council (Divya Parishad). In such a situation, Nagraj is able to see the light beam and then he reflect the attack of Vikrit by struck it on the light beam, is it really possible? I am just leaving it on you guys.
  • When Nagraj takes See-thru to the outer space, every patch of See-thru's torn shirt flies away. I mean, the shirt has shown fully removed. In the first 8-10 scenes of the space, the shirt is not shown on the upper body of See-thru. But from the first frame of page number 12, every scene until Nagraj's body get rebuild had shown a piece of shirt on See-thru's left wrist. And that also is of red instead of blue. There is the slightest mistake in drawing here.
  • The idea of bringing much more superheroes/villains in a comic or series is totally a waste. The first disadvantage, the story becomes longer. Second, most of the characters become fail to leave their mark. Take the example of Doga, Steel, and Tiranga in the series. So far, their roles are just nominal, and it would be redundant to expect further more. Well, on this point we'll talk some other day, and would speak only on this issue.

Positive Sides of the Comic Brahmand Vikhandan:

  • No doubt, the strongest aspect of the comic Brahmand Vikhandan is an increase in its page numbers. It was very nice to see a 64 pages comic in "Aakhiri Rakshak Series". The increased page numbers in this series will surely improve the reader's interest.
  • In comparison to the first four parts of this series, this part "Brahmand Vikhandan" has enhanced the pace of the story. And not only has increased the speed, but the story becomes easy to understand and entertaining too.
  • The artwork of this comic "Brahmand Vikhandan" is also better in compared to the rest of all parts. Especially in the story of 'Anthony and Pret Uncle' and in the story of Tretayaug where Prachanda appears, the entire artwork in these parts is fantastic.
  • As I said in my previous "Review Vishwa Rakshak", the pair of 'Dead (Murda)' and 'Phantom (Pret)' is a rocking pair. The story of 'Erie's Forest' part did not get many pages, but still, I would say that this part was fantastic. This pair of 'Dead and Phantom (Murda & Pret)' can be introduced with a new series. And I bet that a comics series of this pair will surely excite the readers.


So, this was the review of comic 'Brahmand Vikhandan'. How many ratings will you give to this comic, this is up to you. But yes, if you've read the previous comics of this series, then you will have to read it too. We will wait for the next and the 7th part of the series 'Brahmand Vismaran'. As well as we would also like to hear that, the people who had disappeared now returned back safely to Earth.


You Might Also Like Read the Previous Part Review 'Adrishya Shadyantra': 

Review - Adrishya Shadyantra

हिंदी के लिए नीचे देखें
 Scroll Down to Read in Hindi

Review-Brahmand-Vikhandan----Pic-2

न तो ब्रह्माण्ड विखंडन हुआ और ना ही होने जा रहा है, लेकिन हाँ नागराज ज़रूर विखण्डित हुआ था और अब जुड़ भी गया है। 'आखिरी रक्षक एक्सप्रेस' अब जा पहुंची है छठे स्टेशन यानी 'ब्रह्माण्ड विखंडन' तक। पिछले कुछ स्टेशन्स की ही तरह, इस स्टेशन में भी यात्रियों की तादाद में बढ़ोतरी हुई है। और यही वजह है कि 'आखिरी रक्षक एक्सप्रेस' को अपने गंतव्य तक पहुँचने में देरी हो रही है। खैर अगर आपकी सीटें रिज़र्व हैं तो आप इस यात्रा का आनदं लें सकते हैं।

समीक्षा ब्रह्माण्ड विखंडन:

आखिरी रक्षक श्रंखला का छठा भाग ब्रह्माण्ड विखण्डन। इसके बारे में बाद में बात करते हैं, सबसे पहले तो कोई मुझे यह बताएं कि क्या यह सच में आखिरी रक्षक श्रंखला ही है? मुझे नहीं लगता!!! श्रंखला का नाम है आखिरी रक्षक, लेकिन अगर पहले भाग को छोड़ दिया जाए तो बाकी के हर भाग में रक्षकों की आंधी सी आई हुई है। और इस भाग में तो पुरातन काल का एक रक्षक भी आ पहुंचा है। राज कॉमिक्स यूनिवर्स के ज़्यादातर सुपरहीरोज़ यानी रक्षक आख़िरी श्रंखला में मौजूद हैं। फिर भला ये आखिरी रक्षक श्रंखला कैसे हुई? केवल सुपरहीरोज़ ही नहीं बल्कि नए विलेन्स के अलावा पुराने विलेन्स भी इस श्रंखला में आने शुरू हो गए हैं। किरदारों की बाढ़ सी आई हुई लगती है।

खैर आईये आगे बढ़ते हैं और बात करते हैं कॉमिक ब्रह्माण्ड विखंडन की। कहानी शुरू हुई थी वीरान हो चुकी पृथ्वी से। न केवल इंसान यहाँ तक के जीव-जंतु भी पृथ्वी से गायब हो चुके थे। बचे थे तो केवल दो रक्षक। शायद इसीलिए इस श्रृंखला का नाम पड़ा 'आखिरी रक्षक श्रंखला'। लेकिन अब लगता है कि लेखक अपनी ही कहानी में उलझ गए हैं। आखिरी रक्षक श्रंखला को "बहु-रक्षक श्रंखला" बना दिया और एलियन -एलियन खेलने लग गए।

आते हैं कहानी पर, कहानी में बाकी सब ठीक है सिवाय 'नागराज बनाम विकृत' और भेड़िया-शक्ति' वाले हिस्से को छोड़कर। नागराज बनाम विकृत में तो नागराज को उसकी अच्छी किस्मत बचा गयी, नहीं तो....। मैं ये नहीं कह रहा की विकृत को ज़्यादा ताकतबर दिखाया गया है, मैं ये कहना चाह रहा हूँ की नागराज को ज़रूरत से ज़्यादा कमजोर दिखाया गया है। अंतरिक्ष के निर्वात में युद्ध, बेबस नागराज, उलकाओं को लेकर परमाणु का आना, प्रकाश पुंज में ध्रुव का जाना, कुछ भी ख़ास नहीं था। सबसे ज़्यादा निराशा ये देखकर नहीं हुई कि नागराज इच्छाधारी कणों में विखंडित होकर अनंत ब्रह्मांड में बिखर गया है। निराशा तब हुई जब परमाणु के उल्काओं को लेकर जाने से ग्रुत्वकर्षण पैदा हुआ, और नागराज का शरीर पुनः जुड़ गया। वह इच्छाधारी कण बड़ी ही आसानी से इकठ्ठा हो गए, जोकि न जाने ब्रह्माण्ड में कितनी दूर तक बिखर गए थे। 

भेड़िया-शक्ति वाले हिस्से में आदिवासी ज़रूरत से ज़्यादा ही ताकतबर लग रहे हैं। ऐसे विशालकाय आदिवासिओं और पशु-पक्षियों के लिए तो भेड़िया, उसकी भेडिया फ़ौज और उसकी गदा ही काफी थे। लेकिन अब इनसे निपटने के लिए शक्ति, वनपुत्र और ध्रुव के साथ साथ भेडिया के पुराने और बेहद खतनाक दुश्मनों को भी आना पड़ गया है। माना की आदिवासी काले साये की गिरफ्त में हैं और यह काला साया मानसिक शक्तियों युक्त है और बेहद शक्तिशाली है। लेकिन फिर भी यह सब ज़्यादा लग रहा है।

ब्रह्माण्ड विखण्डन कॉमिक्स का आर्टवर्क आखिरी श्रृंखला की शुरूआती कॉमिक्स से कहीं बेहतर है, लेकिन फिर भी काफी सुधार की ज़रूरत है।
बीच-बीच के कुछ पृष्ठ ऐसे बने हैं मानो की हास्य हिन्डोला का कोई पृष्ठ हो। मेरा मतलब वास्तविक लगने की बजाय कार्टून्स की तरह लग रहे हैं। एंथोनी और प्रेत अंकल वाले हिस्से और त्रेतायुग की कहानी यानि प्रचंडा वाले हिस्से में आर्टवर्क उम्दा है।

संवादों में कहने लायक कुछ भी नहीं है, संवाद सीधे और सरल हैं। कहानी के बीच बीच में हल्का फुल्का हास्य डाला गया है, जोकि ठीक-ठाक ही है।


ब्रह्माण्ड विखंडन कॉमिक्स के नकारात्मक पहलु:

  • नागराज विकृत को लेकर अंतरिक्ष में पहुंच जाता है, वो भी उड़ता हुआ। जहाँ तक मुझे याद है नागराज के पास उड़ने की शक्ति नहीं है। भाई नागराज की शक्तियां अपग्रेड कब हुई, बता तो दिया करो।
  • नागराज खुद ये कहता है की, "कायदे से तो प्रॉफ़ेसर यानी विकृत का शरीर अंतरिक्ष के निर्वात में खील-खील होकर बिखर जाना चाहिए था, पर ऐसा हुआ नहीं। यानी कोई शक्ति उसकी मदद कर रही है।" लेकिन सोचने वाली बात ये भी है कि नागराज के साथ ऐसा क्यों नहीं हुआ? आखिर उसका शरीर भी है तो इन्सानी ही है।
  • जब परमाणु उल्काओं के लेकर सूर्य की ओर जा रहा था तो ग्रुत्वकर्षण पैदा हुआ और इससे नागराज का विखण्डित शरीर दुबारा जुड़ गया। इसके ठीक बाद नागराज और विकृत में फिर से युद्ध शुरू हो गया। तभी एक प्रकाश पुंज वहां से गुजरा जिसमें की ध्रुव को दिखाया गया है। मतलब ये तब की घटना होगी जब दिल्ली में परमाणु, ध्रुव और कारा पर ब्रह्माण्ड योद्धाओं का हमला हुआ था और ध्रुव ट्रांसफ्यूज़ हो गया था। यहाँ गौर करने वाली बात ये है की, परमाणु के अंतरिक्ष में नागराज के पास से गुजरने और फिर प्रकाश पुंज के गुजरने के बीच ज़्यादा से ज़्यादा 10 फ्रेम्स यानी 10-15 मिनटों का अंतराल रहा होगा। जबकि परमाणु के उल्काओं को लेकर जाने और ध्रुव के ट्रांसफ्यूज़ होने के बीच काफी घटनाएं घटी थी। सबसे अहम्, उल्काओं से निपटने के बाद परमाणु बेहोश हो गया था। फिर परमाणु, ध्रुव और कारा कैप्टाउन पहुंचे थे, जहां उन्होंने परग्रहियों को ढूँढा। फिर उन पर मेक्ट्रियम गृह के आधुनिक लड़ाकों का हमला हुआ। फिर वहां से वह दिल्ली पहुंचे और तब दिल्ली में ध्रुव ट्रांसफ्यूज़ हुआ। मतलब लेखक की समय गणना सही नहीं है। घटनाओं को एक दुसरे के साथ जोड़ने का अच्छा प्रयास किया गया है, लेकिन घटनाओं के बीच का समय अंतराल गड़बड़ है।
  • वैसे उपरोक्त उल्लेखित दृश्य में एक और गौर करने लायक बात है। प्रकाश पुंज की गति क्या रही होगी? अगर मेरा अंदाजा सही है तो ध्रुव ट्रांसफ्यूज़ हुआ और प्रकाश पुंज के जरिये दिव्या परिषद् के समुख पहुंचा। क्या ऐसी स्थिति में नागराज का प्रकाश पुंज को देखना और विकृत के वार को उस प्रकाश पुंज पर टकराकर परावर्तित करना, क्या वाकई ऐसा संभव है? यह में आप दोस्तों पर ही छोड़ता हूँ।
  • सी-थ्रू को नागराज द्वारा अंतरिक्ष में ले जाते वक़्त, ब्लास्ट में फटी हुई सी-थ्रू की शर्ट का हर चिथड़ा उड़ जाता है। अंतरिक्ष में पहले 8-10 दृश्यों में सी-थरु के ऊपरी शरीर पर कपडा लेशमात्र भी नहीं दिखाया गया है। लेकिन पृष्ठ संख्या 12 की पहली फ्रेम से लेकर नागराज के विखंडित शरीर के पुनः जुड़ने तक के सभी दृश्यों में सी-थ्रू की बायीं कलाई पर उसकी शर्ट का एक हिस्सा दिखाया गया है। और वह भी नीले की जगह लाल रंग का। यहाँ चित्रकारी में गलती हुई है।
  • कॉमिक या श्रृंखला में अधिक नायकों/खलनायकों को लाने का विचार घाटे का सौदा है। एक तो कहानी ज़्यादा लंबी हो जाती है, दूसरा ज़्यादातर किरदार छाप छोड़ने में नाकाम रहते हैं। जैसे इस श्रंखला में डोगा, स्टील और तिरंगा को ही ले लीजिए। अब तक इनकी भूमिकाएं बस कहने मात्र के लिए ही हैं, और शायद आगे भी कुछ अधिक नहीं होंगी। खैर इस मुद्दे पर हम किसी और दिन बात करेंगे, और बात करेंगे तो केवल इसी मुद्दे पर

ब्रह्माण्ड विखंडन कॉमिक्स के सकारात्मक पहलु:

  • कोई दोराय नहीं, ब्रह्माण्ड विखंडन कॉमिक का सबसे मजबूत पहलु इसकी पृष्ठ संख्या में बढ़ोतरी रहा। आखिरी श्रृंखला की इस कॉमिक को 64 पृष्ठों में देख कर बहुत अच्छा लगा। पृष्ठ संख्या में बढ़ोतरी होने से इस श्रंखला में पाठकों की दिलचस्पी भी ज़रूर बढ़ेगी।
  • ब्रह्माण्ड विखंडन कॉमिक की तुलना अगर इस श्रंखला के पहले चार भागों से की जाए तो यक़ीनन इस भाग ब्रह्माण्ड विखण्डन ने कहानी की गति में काफी ज्यादा इजाफा किया है। और न केवल गति ही बढ़ी है, बल्कि कहानी समझने में सरल और मनोरंजक भी हो गयी है।
  • ब्रह्माण्ड विखंडन कॉमिक का आर्टवर्क भी बाकी के सभी भागों से बेहतर है। खासकर एंथोनी और प्रेत अंकल वाले हिस्से और त्रेतायुग की कहानी यानी प्रचंडा वाले हिस्से में आर्टवर्क शानदार हुआ है।
  • जैसा की मैंने इस श्रृंखला के चौथे भाग यानि "विश्व रक्षक समीक्षा" में भी कहा था, मुर्दे और प्रेत की जोड़ी कमाल की है। कहानी में ईरी के जंगल वाले हिस्से को ज़्यादा पृष्ठ नहीं मिले, लेकिन फिर भी मैं यह कहना चाहूंगा कि ये हिस्सा शानदार था। केवल मुर्दे और प्रेत की जोड़ी को लेकर एक नई श्रंखला शुरू की जा सकती है। और मैं शर्त लगाकर कह सकता हूँ की इन दोनों की जोड़ी वाली श्रंखला पाठकों को ज़रूर पसंद आएगी।


तो ये थी समीक्षा 'ब्रह्माण्ड विखंडन' कॉमिक्स की। आप इस कॉमिक को कितनी रेटिंग्स देते हैं, ये आप पर निर्भर करता है। लेकिन हाँ अगर आप इस श्रंखला की पिछली कॉमिक्स पढ़ चुके हैं, तो फिर आपको इसे भी पढ़ना ही होगा। इंतज़ार रहेगा श्रंखला के अगले और सातवें भाग 'ब्रह्माण्ड विस्मरण' का और साथ ही इंतज़ार रहेगा पृथ्वीवासियों के सकुशल धरती पर वापस लौटने का।

Review-Brahmand-Vikhandan--Pic-3



Rate Please: 



My Ratings: 3.5 

RC Official Rating: N/A 


Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

1 comments:

  1. bro nagraj got a huge powerup in the nagraj ke baad series ,if you want to know more please read it

    ReplyDelete