Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Sarvashakti Raj Comics Sarvnayak Series Part 8

Review Sarvashakti - Complete Comic Analysis + Good and Bad Aspects of The Comic


Sarvshakti the 8th part of Sarvnayak Series, this part was released after a long gap and Readers had wait long for this part. Readers were awaited eagerly this comic for 2 main reasons. The first, final competition between Doga and Yoddha, and off course the result of this competition. And second, the arrival of Nishachar. But, they were disappointed by the both. On the other hand, several parallel events which are going on along with the Sarvnayak competition, are still remain unanswered. And this part has also raised several mysteries and questions. So let's begin the discussion on comic Sarvashakti. And let's try to figure out, what happened and why? Is it correct? If not, then why not?


Review-Sarvashakti-Raj-Comics-Sarvnayak-Series-Pic-1
Rate Please: 



My Ratings: 4/5 

RC Official Rating: N/A 


Code: SPCL-2615-H
ISBN: 9789332427150
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Nitin Mishra
Penciler: Sushant Panda, Hemant Kumar
Inker: Ishwar Art, Vinod Kumar, Swati
Colorist: Abhishek Singh, Basant Panda
Pages: 96
Price: Rs. 90.00


Let's quickly take a look at these things that happened in 90 pages of Sarvashakti. 

Some action was expected from Nishachar, but he doesn't fulfill the expectations. Doga and Yoddha compete for each other in Arm wrestling match. There was nothing special, anyone can easily predict the outcome of this competition, and my guess was right. Shambhook deceitfully provides additional strength to Doga, and guess how? From his own sweat. What a smelly idea it was. Well, at first I was also thinking something like Parmanu, but later I came to know that it is just sweat. Parmanu and Prachanda start fighting once again. And shortly both behaves like sensible kids, and settle their problem with a little talk. A humble request to both of you, Please stop increasing the pages of the comic unnecessarily. Good job Bhediya, you deserves applause. Really smart guy, I like the way he binds Ashwaraj hands and feet with his tail and tied saddle on him. Bhediya has proved it a second time in Sarvnayak series that he is a half animal and half human but he has a full brain. 

Right now just one inaccuracy had come out of Sarvmanthan, and the condition of ICU legends (Invasion Control Unit) began to be worse in such a short period. Sagham has lost the Trimund as it was a toy he found at the fair, no problem we'll buy another one. Now what should I call you Sagham? You lose things that you have in your hands and plans to rule the world and sinners.

Prakriti already knew all about the kshudra planets and she created his daughter Pryawa to tackle them. Despite this, Prakriti doesn't help Pralayanka and Dhananjay. And when her brother Prkrat was going to finish them both, then suddenly she activates her daughter and stops Prkrat from doing so. Damn, why not she stopped Prkrat earlier? By doing so Prakriti had could save 4-5 pages of this comics. Man, what is it Supreme Head, Nagraj's enemy? What happened to him? He looks like a "Poor Head" rather than "Supreme Head". All's well that ends well, the last 2 pages of the comics are lot more effective. Why? My dear our beloved Banke is there. The entry of Gamraj and his part in the story is nothing special. But really, I'm happy to see the both Bankelal and Gamraj in this comics.

Now let's start the Review,

Review - Sarvashakti | Sarvnayak Series Part 8:

In terms of story, the story of Sarvashakti comics has certainly grown, but the journey was not so much exciting or spectacular. Someone has said it very true, “the journey is more important than the destination”. And the journey must be entertaining, otherwise, I do not think we will reach the destination. For the story, I would say in a single sentence. "The story is entertaining, but it cannot be said a perfect entertainment". 

We have read 7 separate but parallel stories in this comics. 3 of which are brand new (last 3, Yantrik Raktabeej, Gamraj and Bankelal). In the remaining 4, the ongoing competition in Kaalrann made some progress. While rest of the stories are almost in the same position, just a slight increase. Yes, a few more characters and some new twist have been added to these stories. In these 7 stories, a few parts are good and they are Nishachar (somewhat), the main competition, Trimund (a little bit) and Vishaalgarh, but rest of the parts are disappointing. 

If you are having difficulty in remembering the story of all eight parts of the sarvnayak series. Then I would advise you to buy Chyawanprash as soon as possible, why? Oh man, to strengthen your memory, because we are all going to need it very soon. Bankelal and Gamraj have arrived in the story, then surely Fighter Toads will soon be join the club too. And as we have seen the advertisement page of the upcoming comics Sarvaagman, now we all know that the old forgotten superheroes are also returning. Why this series was named "Sarvnayak", it is now fully understood. "Sarvnayak" series is now justifying its name. So now, How much further the story will grow? What might be next in the story? Who else will join the story in addition to all these Superheroes? I'm leaving it to you, you can get an idea yourself. But one thing is sure, just forget about the conclusion of Sarvnayak series at the moment. Now from here it's interesting to see, how the writer will adjust the upcoming superheroes in the story, especially the Comedy Kings. How he would brought these superheroes and the comedy heroes together into the ongoing serious story without damaging the seriousness of the story. It would be fun to watch.

Now let's move towards the artwork, artwork is fantastic in the opening chapters of the comics. Especially the pages of Nishachar and Bhediya-Ashwaraj. The artwork in Doga-Yoddha pages is not that much good. The last chapters of the comics are totally opposite to the starting chapters. Just except the last 2 pages of Bankelal, the rest of the artwork is totally disappointing. Especially the "Yantrik Raktbeej", the entire artwork of this chapter is very disappointing. The remaining chapters Trimund and Dev Shapath, artwork of both of these chapters is average and needs to be improved. Oh yeah, the last page of Trimund chapter devoted to Agori is great, artwork is beautiful.

Dialogues are average but still, they are fine. Humorous, spicy and satirical dialogues are perfectly placed in the serious ongoing story and they are great. Some dialogue of Parmanu are funny and full of satire, which are very important in terms of entertainment. But as I say again and again, everything has its limit. Once this limit has been superseded, then the result would definitely be negative. In Sarvnayak series I noticed that Parmanu is becoming long tongue. Humor is good but in a limit. This is my personal opinion that perhaps Parmanu is being tried to make "Desi Tony". The dialogues of Parmanu are becoming like a wild bull, and this can spoil his good heroic image.
Well anyway, dialogues in the comics completely correspond to the personality of the characters, and totally matched with the circumstances. Dialogues are powerful, emotional, reflective, sincere and spicy too. Overall, the dialogues are written in a good manner.


Weak links of comics Sarvashakti:

  • In Nishachar comics, Doga and Dhruva were overcome Nishachar after a hard struggle. And in this comic, the same Nishachar was easily handled by Anthony alone and that too in just 10 frames. Of course, Anthony and his cold fire (Thandi Aag) both are powerful, but even then this encounter should have shown a little more detail.
  • Page 74 frame 2, a crown of green leaves is on Prkrat's head. But on the very next page, the color of this crown changed into red. And before these scenes, there is no crown on the head of Prkrat. Minor mistake in drawing.
  • Page 75 the first frame, Prakriti is shown wearing a crown of leaves on the head. This crown is shown in red color, while it was supposed to be green. Before these scenes, this crown has been shown made up of green leaves. Another minor mistake in drawing here.
  • Page 89 first frame, King Luna is shown wearing something red (probably jacket) over his yellow shirt. But on page 91 his entire yellow shirt is missing, he is shown wearing a red jacket only. Oh forget the shirt, it seems the whole King Luna has been changed on this page. Whoa, we got one more minor mistake in drawing here.
  • Page 89, the complete electronic hand of Supreme Head is missing here. Damn, we have caught another small mistake in the drawing here.
  • The strength of Shakti's fire form, advance Science of Probot, Max Kotino, and Professor Nucleolus all are proved wasted and useless. Garvgreh was built by the joint efforts of all these people. And furthermore, titanium was used to build this Garvgreh. And now you can see that how much strong, durable and reliable this Garvgreh has been proved. Got to see very quickly. A pillar of Titanium-containing Garvgreh could not last for two days. Pillar of a sector next to Gamraj's sector suddenly broke down, and it was containing titanium. It was unbelievable.


Strong Pillars of comics Sarvashakti:

  • The story has been kept very clean in this part, readers will have no difficulty in understanding. As well as each chapter received enough pages.
  • The artwork is great, just except a few parts and pages. Nishachar, Bhediya-Ashwaraj, Trimund, and Dev Shapath (except a few frames) and Bankelal, artwork is spectacular in these parts of the comics, fully commendable. A few pages of some chapters are created fantastic, especially the single-frame pages. Such as, page number 2 (The arrival of Nishachar), Pages number 39, 48 and 54 (Bhediya vs. Ashwaraj) and page number 68 which is dedicated to Agori. All of these pages are drawn very well.
  • Nice to see the both of Bankelal and Gamraj in Sarvnayak series, glad to see the comedy kings once again. Readers will surely need them in this serious ongoing story. And hope readers will surely like their comedy, as always.

And finally, overall, Sarvashakti is slightly higher than an average comic. It is entertaining and worth the money. Please do not forget to rate the comics, the rating panels are present at the top and bottom of the post. The next parts are expected to be even more wonderful. Tata Bye-bye guys, see you at the next review.


You Might Also Like to Read the Review of Previous Part 'Sarvakranti ': 

Review - Sarvakranti


हिंदी के लिए नीचे देखें
Scroll Down to Read in Hindi

Review-Sarvashakti-Raj-Comics-Sarvnayak-Series-Pic-2


समीक्षा सर्वशक्ति - पूर्ण कॉमिक्स विश्लेषण + अच्छे और बुरे पक्ष


र्वनायक श्रृंखला का आठवां भाग सर्वशक्ति, श्रृंखला के इस भाग ने पाठकों को लंबा इंतज़ार करवाया। इस कॉमिक्स में पाठक सबसे ज्यादा जिसके लिए उत्सुक थे वो थी, डोगा और योद्धा के बीच अंतिम स्पर्धा यानि के प्रतियोगिता का परिणाम। और दूसरा तमस के बेटे निशाचर का आगमन। लेकिन दोनों ही जगह पाठकों के हाथ निराशा ही लगी। दूसरी और सर्वनायक प्रतियोगिता के साथ चल रही अन्य घटनाओं के जवाब तो नहीं मिले, लेकिन इस भाग ने और कई रहस्य और सवाल जरूर खड़े कर दिए। तो आइए चर्चा करते हैं कॉमिक सर्वशक्ति पर, और जानने की कोशिश करते हैं की आखिर क्या हुआ? क्यों हुआ? सही हुआ? नहीं हुआ तो क्यों नहीं हुआ?

आईये जल्दी-जल्दी एक नजर डालते हैं इन 90 पृष्ठों में घटित घटनाओं पर।
निशाचर जितनी उम्मीदें लेकर आया था, उन सभी पर पानी फेर कर चला भी गया। देवपुत्र और लायन जिम के शेर के बीच हस्तद्वंद, इसमें कुछ खास नहीं था। इसके नतीजे का अनुमान कोई भी लगा सकता है और मेरा ये अनुमान सही भी रहा। शम्भूक डोगा को छल से अतिरिक्त बल प्रदान करता है, कैसे? अपने पसीने से। क्या बदबूदार आईडिया था यार। खैर, पहले पहल तो मैं भी परमाणु की तरह कुछ और ही सोच रहा था, लेकिन बाद में निश्चिन्त हो गया कि यह पसीना ही है। परमाणु और प्रचंडा फिर से लड़ पड़ते हैं और कुछ ही देर में दोनों समझदार बच्चों की तरह बातचीत कर आपसी समस्या (जोकि थी ही नहीं) सुलझा लेते हैं। यार तुम दोनों अब बस भी करो, क्यूँ कॉमिक की पृष्ठ संख्या को एमवे-ई बढ़ाये जा रहे हो। वाह भेडिया वाह, भेड़िया सच में तालियों का हकदार है। जिस चालाकी से भेड़िए ने अपनी पूँछ द्वारा अश्वराज के हाथ पाँव बाँध उसपर काठी बाँधी, उसने सर्वनायक श्रंखला में दूसरी बार साबित कर दिया कि बेशक आधा जानवर ही सही, पर दिमाग वो पूरा रखता है।

सर्वमंथन से अभी केवल एक ही अशुद्धि निकली है और आई.सी.यु (इन्वेजन कंट्रोल यूनिट) के दिग्गज खलनायकों के तोते अभी से उड़ने शुरू हो गए हैं। संघम ने त्रिमुंड को ऐसे गवाया जैसे की मेले में मिला कोई खेलौना हो, कोई बात नहीं दूसरा खरीद लेंगे। सघम अब मैं तुझे क्या कहूँ, जो हाथ में था वो संभाला नहीं गया और बात करता है पापियों को अमृत पिलाकर अनंतकाल तक दुनिया और पापियों पर राज करने की। प्रकृति को पहले से क्षुद्र ग्रहों के बारे में सब पता था और उसने अपनी बेटी पर्यावा का सृजन इसीलिए किया था। लेकिन प्रकृत और उसके चेलों द्वारा प्रलयंका और धनंजय की अच्छी खासी पिटाई करवाना जरूरी था। अरे जब प्राकृत को रोकना ही था तो पहले ही क्यों नहीं रोक लिया।

यार ये वही सुप्रीम हेड है न अपने नागराज का दुश्मन? लेकिन इसे हुआ क्या है, ये सुप्रीम हेड कम और "बेचारा हेड" ज्यादा लग रहा है। वो कहते हैं न अंत भला तो सब भला, कॉमिक के आख़िरी 2 पृष्ठों में जान है। क्यों? अरे भाई अपना बाँके जो है इनमे, अब मुच्छड़ की जान है की जाती नहीं और बांकेलाल की आदत उसे छोड़ पाती नहीं। सर्वशक्ति की कहानी में गमराज वाला भाग कुछ खास नहीं लगा, लेकिन गमराज और बांकेलाल दोनों को देखकर मन हरा भरा हो गया। गम हो गए कम और बांकेलाल दिखाएगा अगले भाग में कमाल।

चलिए अब शुरू करते हैं समीक्षा,

समीक्षा - सर्वशक्ति | सर्वनायक श्रृंखला भाग 8:

सर्वशक्ति की कहानी की बात करें तो कहानी आगे ज़रूर बढ़ी है, लेकिन यात्रा इतनी भी रोमांचक या शानदार नहीं रही। वो कहते हैं न, "यात्रा गंतव्य से अधिक महत्वपूर्ण होती है"। और यात्रा मनोरंजक तो बिलकुल होनी ही चाहिए, वर्ना मुझे नहीं लगता की हम गंतव्य तक पहुंच पाएंगे। कहानी के लिए एक वाक्य में कहूँगा, कहानी अच्छी है मनोरंजक है, लेकिन इसे संपुर्ण मनोरंजन नहीं कहा जा सकता।

इस कॉमिक्स में 7 अलग-अलग लेकिन सामानांतर कहानियां/घटनाएं देखने को मिली, जिनमे से 3 बिलकुल नयी हैं (अंतिम तीन यानी यांत्रिक रक्तबीज, गमराज और बांकेलाल)। बाकी बची चार, उनमें से कालरण में चल रही प्रतियोगिता ने थोड़ी तरक्की की है और बाकी सब तक़रीबन वहीँ की वहीँ है। हाँ कहानी मे कुछ और किरदार एवं कुछ नए मोड़ जरूर जुड़ गए हैं। इन 7 कहानियों में से निशाचर (थोड़ा सा), मुख्य प्रतियोगिता, त्रिमुंड (कुछ हद तक) और विशालगढ वाले हिस्से बढ़िया हैं, लेकिन बाकी के भागों ने निराश किया है। 

पाठको अगर आपको श्रंखला के अब तक आये इन आठ भागों की कहानी को याद रख पाना मुश्किल हो रहा है। तो मैं आपको जल्द से जल्द चव्यनप्राश खरीदने की सलाह दूंगा, क्यों? अरे भाई याददाश्त मजबूत बनाने के लिए, क्योंकि हम सबको आगे इसकी बहुत जरूरत पड़ने वाली है। अगर कहानी में बांकेलाल और गमराज की एंट्री हुई है, तो यक़ीनन फाइटर टोड्स भी आएँगे। और जैसा की हमने सर्वागमन, के विज्ञापन पृष्ठ में देखा और पढ़ा, पुराने भुला दिए गए सुपरहीरोज़ भी वापसी करने वाले हैं। इस श्रंखला का नाम सर्वनायक क्यों रखा गया, यह बात अब पूरी तरह से समझ आ रही है। यानी ये श्रंखला आपने नाम "सर्वनायक" को सही साबित कर के ही रहेगी। तो कहानी कितनी आगे जाएगी? कहानी में आगे और क्या कुछ हो सकता है? इन सब के अलावा और कौन कहानी में आएगा? यह सब मैं आप पर छोड़ता हूँ, इसका अनुमान आप खुद ही लगा लीजिए। पर एक बात तो तय है, सर्वनायक श्रंखला के समापन के बारे में अभी फिलहाल भूल जाइये।
अब यहाँ से आगे, लेखक आने वाले सुपरहीरोज़ खासकर कॉमेडी किंग्स को किस तरह से कहानी में एडजस्ट करते हैं। कैसे वह संजीदा चल रही कहानी में नए सुपरहीरोज़ और हास्य सम्राटों, को एक साथ लाते हैं (बिना कहानी की संजीदगी को नुकसान पहुंचाए), ये देखना मजेदार होगा।

रुख करते हैं आर्टवर्क की और, कॉमिक्स के शुरूआती अध्यायों में आर्टवर्क बढ़िया है। खासकर निशाचर एवं भेडिया-अश्वराज वाले पृष्ठ। डोगा-योद्धा वाले कुछ पृष्ठों में आर्टवर्क कुछ हद तह ठीक है। लेकिन इसके ठीक विपरीत कॉमिक्स के आख़िरी के अध्यायों में बांकेलाल वाले 2 पृष्ठों को छोड़कर, बाकियों का आर्टवर्क निराशाजनक है। खासकर यांत्रिक रक्तबीज वाले संपुर्ण अध्याय का आर्टवर्क बहुत ही निराशाजनक है। बच गए त्रिमुंड और देव शपथ अध्याय, इनमे आर्टवर्क औसत है और सुधार की जरूरत है। हाँ त्रिमुंड अध्याय का अघोरि को समर्पित अंतिम पृष्ठ लाजवाब है।

संवाद औसत, लेकिन फिर भी ठीक ठाक हैं। संजीदा चल रही कहानी में जो छुटपुट हास्य और चटपटे संवाद डाले गए हैं वो बढ़िया हैं। परमाणु के कुछ संवाद हलकी-फुलकी मस्ती और व्यंग्य से भरपूर हैं। जो की मनोरंजन के लिहाज से अतिआवशयक हैं। लेकिन जैसा की मैं बार बार कहता हूँ, हर चीज की एक तय सीमा होती है। अगर ये सीमा लांघी जाए तो परिणाम नुक्सानदायक ही होगा।
सर्वनायक श्रंखला में मैंने ये गौर किया कि परमाणु कुछ ज्यादा ही बडबोला होता जा रहा है। छुटपुट हास्य अच्छा है, लेकिन एक सीमा में। ये मेरा व्यक्तिगत विचार है कि शायद परमाणु को शायद "देसी टोनी" बनाने की कोशिश की जा रह है। परमाणु के संवाद एक बिगड़ैल बैल की तरह होते जा रहे हैं और यह उसकी अच्छी खासी छवि को खराब कर सकते हैं।
खैर जो भी हो, कॉमिक्स के संवाद किरदारों की शख्सियत, कहानी और परिस्तिथियों के साथ मेल खा रहे हैं। संवादों में बजन भी है, भावुकता, संजीदगी और मसाला भी है। संवाद कुलमिलाकर अच्छे लिखे गए हैं।


सर्वशक्ति कॉमिक्स की कमजोर कड़ियां:

  • डोगा और ध्रुव ने जिस निशाचर को काफी जद्दोजहद के बाद काबू किया था, उस निशाचर को अकेले एंथोनी ने केवल 10 फ्रेम्स में निपटा दिया। बेशक अन्थोनी और उसकी ठंडी आग दोनों ही दमदार हैं, लेकिन फिर भी इस मुठभेड़ को थोड़ा और विस्तार से दिखाया जाना चाहिए था।
  • पृष्ठ 74 की फ्रेम संख्या 2, प्रकृत की सर पर पत्तों का हरा मुकुट है। लेकिन अगले ही पृष्ठ पर इस मुकुट का रंग बदल कर लाल हो गया है। और इससे पहले के दृश्यों में प्रकृत के सर पर मुकुट है ही नहीं। यहाँ पर ड्राइंग में छोटी सी गलती है।
  • पृष्ठ 75 की पहली फ्रेम, प्रकृति ने सर पर पत्तों का मुकुट पहना है। यह मुकुट लाल रंग का दिखाया गया है, जबकि यह हरे रंग का होना चाहिए था। इससे पहले के दृश्यों में भी ये हरे रंग के पत्तों का बना हुआ दिखाया गया है। यहां पर ड्राइंग में एक और छोटी सी गलती है।
  • पृष्ठ 89 की पहली फ्रेम, किंग लूना ने पीली शर्ट के ऊपर लाल रंग का कुछ (शायद जैकेट) पहना है। लेकिन पृष्ठ 91 में उसकी पूरी पीली शर्ट गायब है, केवल लाल जैकेट ही है। अरे शर्ट को छोड़िये मुझे तो पूरा का पूरा किंग लूना ही बदला हुआ सा लग रहा है। हो-हो, हमें यहां ड्राइंग में एक और छोटी सी गलती मिली है।
  • पृष्ठ 89 में सुप्रीम हेड का पूरा इलेक्ट्रॉनिक हाथ ही गायब है। अरे नहीं, हमने यहां ड्राइंग में एक और छोटी गलती पकड़ी है।
  • शक्ति के अग्नि रूप की ऊष्मा, प्रोबोट, मैक्स कोटिनो एवं प्रॉफ़ेसर न्युक्लियस के एडवांस साइंस द्वारा निर्मित और टाइटेनियम युक्त गर्वग्रह कितना मजबूत, टिकाऊ और भरोसेमंद साबित हुआ। ये बड़ी जल्दी देखने को मिल गया। टाइटेनियम युक्त गर्वग्रह का एक पिलर दो दिन भी नहीं टिक सका। गमराज के बगल वाले सेक्टर का एक पिलर अचानक धराशायी हो गया, वो पिलर जो टाइटेनियम युक्त था। यह अविश्वसनीय था।



सर्वशक्ति कॉमिक्स के मजबूत स्तंभ:

  • इस भाग में कहानी काफ़ी साफ़ सुथरी रखी गयी है, पाठकों को समझने में कोई मुश्किल नहीं होगी। और साथ ही हर अध्याय को पर्याप्त पृष्ठ मिले हैं।
  • आर्टवर्क कुछ हिस्सों को छोड़कर बढ़िया रहा है। निशाचर, भेड़िया-अश्वराज, त्रिमुंड और देव शपथ (कुछ फ्रेम्स को छोड़कर) और बाकेलाल वाले हिस्से में आर्टवर्क शानदार, सराहनीय है। कुछ अध्यायों के कुछ एक पृष्ठ, ख़ासकर एकल फ्रेम पृष्ठ लाजवाब बनाए गए हैं। जैसे की पृष्ठ 2 निशाचर का आगमन, पृष्ठ 39, 48 और 54 भेड़िया बनाम अश्वराज, अघोरी को समर्पित पृष्ठ 68। ये सब पृष्ठ बेहतरीन बनाए गए हैं।
  • सर्वनायक श्रंखला में गमराज और बांकेलाल दोनों की एंट्री अच्छी लगी। हास्य सम्राटों को देखकर मन हरा भरा हो गया। गंभीर चल रही कहानी में पाठकों को यक़ीनन इन दोनों की जरूरत होगी, और उम्मीद है कि हमेशा की तरह इनकी कॉमेडी पाठकों को ज़रूर पसंद आएगी।


और अब अंत में, कुल मिलाकर सर्वशक्ति कॉमिक औसत से थोड़ी ज्यादा है, मनोरंजक है और पैसा बसूल है। इस कॉमिक्स को रेट करना न भूले, रेटिंग पैनल पोस्ट के शुरू और अंत में मौजूद हैं। अगले भागों के और भी अधिक बढ़िया होने की उम्मीद के साथ टाटा बाय-बाय। फिर मिलेंगे अगली समीक्षा में।


Review-Sarvashakti-Raj-Comics-Sarvnayak-Series-Pic-3

Rate Please: 



My Ratings: 4/5 

RC Official Rating: N/A 


Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

10 comments:

  1. Replies
    1. Kiska comics ka ya Review ka? 😜
      Kya hua pasand nahin aaya review??? 😞

      Delete
  2. review ka .....bahut hi shandaar style me likha hai,,laajawab

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Crismil,
      Aapke yahi shabd humaara JANOON hain.

      Delete
  3. Replies
    1. Thanks for the encouragement and appreciation.

      Delete
  4. When is Sarvaggaman review coming out? And where is the story headed? How many more parts before it concludes?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bro you have too many questions. Actually, every true fan should have.
      1. I haven't read the Sarvaagman yet, I hope will read it soon and write the review. Actually I was thinking that no one cares :P
      2. I guess, Bhediya and Ashwaraj taking on each other and rest are waiting for their turn :p I forgot the other incidents, have to read the entire series again :D
      3. Only time or the RC team can answer this one.

      Delete
    2. A lot of us care bro.
      You are doing a fantastic job. Keep it up. RC should recognize your efforts.

      Delete
  5. Bhai please aur review daalo.Puraani comics ke bhi chalenge.mujhe aapka review style bahut hi pasand hai.Jabardast detailing hoti hai.Ek movie reviewer style ka.Main kai baar check karta hun but aajkal review nahi dikh rahe>ab Agar RC new set nahi daal rahi to puraani comics ke hi kariye.Pahli baar comics pe koi jabardast writing dekhne ko mili hai.

    ReplyDelete