Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Sarvakranti Sarvnayak Series Raj Comics

 Review Sarvakranti | Sarvnayak Series | Raj Comics 


Your Ratings Please:                  


Review Sarvakranti Pic 1

My Ratings: 3.5 /5        

RC Official Rating: N/A


Code: SPCL-2605-H
ISBN: 9789332425552
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Nitin Mishra
Penciler: Sushant Panda, Hemant Kumar
Inker: Vinod Kumar, Ishwar Art, Swati
Colorist: Bhakta ranjan,BasantPanda
Pages: 96
Price: 90.00



Review - Sarvakranti Raj Comics:

Sarvakranti, the 7th part of the Sarvnayak series has turned out a little bit lighter on my expectations. The comic is entertaining, but it is a bit weak in comparison to the previous part "Sarvasandhi". Let's know why?

The story always comes first and if a story gets complicated, then what will be left in that comic or series to improve? I am not a writer but from a reader's point of view, I think the most important is a neat and clean story. Of course, experimentation is necessary everywhere, but to a certain extent.


When it comes to the story of Sarvakranti, of course the story has grown further but the journey was not so interesting. Lifesaving Sanjeevani has been obtained, the first black power has been originated from Samudra-Manthan, Principal and party catapulted to jail by Nakshatra and his associates, fourth competition between Doga and Yoddha has ended. But still feeling that something is left and what is that? We will see in "Weakest aspect of Sarvakranti" But before that, let's have a look at some other facts.

Artwork is nice, admirable, except just a few frames. Like the scene in which Kaigula saves Masaaba in page 75 frame 3 and page 76. Look at the girl Masaba in both frames. In another scene, without the crowns it is very difficult to distinguish between Queen Ega and her daughter Praaka. Also see page number 29, 67 and 87. Just except of these f pages, overall artwork, the illustrations, coloring, penciling everything is absolutely great. The artwork on Bhediya is highly commendable, see page 23. It's nice to see the old Bhediya once again.

Dialogues are average and ordinary, but are fine. Excessive vigorous dialogues are not written anywhere. Dialogues have been kept simple and clean.

Weakest aspects of the comic (what we missed):


  • Sanjeevani herb search by Bhediya and Ashwaraj was not that much interesting, which could have been.
  • The Weapons war between Bhediya and Ashwaraj had generated the sparks, and Jhadoda had died burnt of them. Sorry Raj Comics team, your readers have grown up now, so please reforms your reasoning.
  • The fourth contest among Doga and Yoddha did not look like more than a formality. There was no chance for Doga in this stage of the contest, so this fourth contest didn't make any sense. If it is said that only a Holy Spirit can free Praaka, then there would be equal opportunity for both the contestants. In such, the victory of Yoddha does not seem a mere formality. But a person who had never killed anyone!!! Please, someone tell me what is Doga doing in such a contest? The Doga, who has never finish his work without the guns and the knives?
  • On the one hand it is mentioned that a person who have not killed anyone in his entire life, and who ever has not any iniquity is the only who could make Praaka free. And on the other hand, Yoddha redeemed Praaka from the magic prison, just after killing a giant beast. Mishra Sir missed here. Iniquity is one thing and killing anyone is totally a different matter. Life is life, no matter that he is an animal or a human being. That is also red, the blood which is shed for a noble cause.
  • The satirical dialogues between Doga and Yoddha which were got to read in Sarvasandhi, are completely missing here in Sarvakranti. In a comic humor is essentially required.


Strengths of the comic:


  • Artwork is appreciable, the whole team has worked well together.
  • Pshubuddhi (Bhediya) has proved that he is not only an animal, he is also known as a half-human and he also has brains.
  • The incidents of Kaliyuga, and Sarvnayak contest has been connected with each other in absolutely a great manner. The first black power came out from Smudra Manthan, and has comes to an end by Bhediya and Ashwaraj at the Himalayas. It reflects a good story by a good writer.
  • Readers would surely like the reintroduction of the old and almost forgotten raj comics characters.


Some facts which impact negatively on Sarvnayak Series :


Extended Universe defenders and the supervillains had started Sarvmanthan I mean Sumudra Manthan 10-12 months ago (June 2015 in Sarvnayak Part 5). And in March 2016, the first superpower has come out. The first superpower took almost 10-12 months to appear. So, when that power would arise, which could stop Maharavana? For which this Samudra manthan had been started. And when the last part of the series will be in our hands, it is little bit difficult to guess.

Do you remember in which part of Sarvnayak series Nakshatra and vidhooshak came face to face for first time? Well, I did not have remember, so I picked the old comics and re-read them, then I remembered that it was the comic "Sarvasanhar" ie Sarvnayak Part-4, in which these two came face to face for the first time. Almost 12-14 months ago, at the end of December 2014. So far in these 12-14 months, the story has grown just two step forward. And the fault is not of the long tail Sarvnayak Series, it is due to the gap between the comics publication.

I just want to say that the long interval between the releases of each part is a concern, and of course it should be. Sarvnayak comic series was started from "Yugandhar" which was released in set 4 of 2013. Almost 3 years have passed since the began of this
series, and the readers have only got to read 7 comics so far. If you calculate the average, then nearly every fifth month a new part is released. To retain the reader's interest in Sarvnayak series, the new parts must publish every three months. Otherwise the readers will get bored with this series. I do not think that the readers would like to read the previous parts again after every fresh release. Could not say about you, but after every fresh release I have to re-read the old parts. Hope that Raj Comics Team would be working on it and soon we will get to see the positive results.

Strengths of Sarvnayak Series:


"Sarvnayak series" is full of legends and super-villains from every time period and era. A series with so many characters and parallel stories is definitely not a cup of tea. I'd appreciate Nitin Mishra sir, who does full justice to each character and the story so far.

The old and almost forgotten Raj Comics major Superheroes and villains have returned again and it has been possible only because of Sarvnayak series. And it includes several top class superheroes and villains. Readers would surely love the return of Raj Comics old and initial characters.

Sarvnayak series is a unique and unrepeatable series, which would be difficult to write again. Through this series, heroes and villains from all eras and time period have been brought together in a same story. In such a series, too many parallel stories and several characters are totally understandable. So, I do not think that anyone could be any complaint about the higher number of comics parts.


Guys, make sure to share your thoughts about this comic with us. Did you like this comic? Was it good? Where should improve? We would like to hear you, comment box is anxiously waiting for you, and me too.

You might also like: 

Review - Sarvasandhi


हिंदी के लिए नीचे देखें
 Scroll Down to Read in Hindi

Review Sarvakranti Pic 2

समीक्षा - सर्वक्रांति राज कॉमिक्स:

सर्वनायक श्रृंखला का सातवाँ भाग सर्वक्रान्ति मेरी उम्मीदों से ज़रा सा कम साबित हुआ। कॉमिक मनोरंजक है, परन्तु पिछले भाग "सर्वसन्धि" के मुक़ाबले यह भाग थोड़ा कमजोर है, अपनी छाप नहीं छोड़ पाया। आइये जानते हैं कि ऐसा क्यों है?

कहानी जोकि सबसे पहले आती है, अगर वही पेचीदा होती जाए तो कॉमिक या श्रृंखला में सुधार करने के लिए बचेगा ही क्या? मैं कोई लेखक तो नहीं हूँ लेकिन फिर भी एक पाठक के नजरिये से अगर देखूं तो मेरे ख्याल से कहानी का साफ़ सुथरा होना सबसे अहम है। बेशक, प्रयोग हर कहीं ज़रूरी होते हैं लेकिन एक तय सीमा तक। 


सर्वक्रांति की कहानी की बात करें तो कहानी आगे ज़रूर बढ़ी है, लेकिन सफर इतना भी रोचक नहीं था। संजीवनी औषदी मिल गयी, समुद्रमंथन से पहली तामसिक शक्ति उत्पन्न भी हुई, नक्षत्र और उसके साथियों ने प्रिंसिपल एंड पार्टी को जेल पहुंचा दिया, डोगा और योद्धा के बीच चौथी स्पर्धा भी समाप्त हो गयी। लेकिन फिर भी मानो कहीं कुछ छूट सा गया हो, लेकिन क्या? इस पर चर्चा करेंगे हम "कॉमिक्स के कमजोर पहलु" में। लेकिन इससे पहले हम कुछ अन्य तथ्यों पर एक नजर डालते हैं।

आर्टवर्क अच्छा है, सराहनीय है बस कुछ एक फ्रेम्स को छोड़कर। जैसे की काइगुला द्वारा मसाबा को बचाये जाने का दृश्य, पृष्ठ 75 फ्रेम 3 और पृष्ठ 76। दोनों फ्रेमों में मसाबा को देखिये। एक अन्य दृश्य में, मुकुटों के बिना प्राका और उसकी माँ ईगा में फर्क कर पाना मुश्किल है। साथ ही देखें पृष्ठ संख्या 29, 67 और 87।  इन दो-चार पृष्ठों के अलावा पूरी कॉमिक्स में चित्रांकन, रंगसज्जा, पेन्सेलिंग सब कुछ बहुत ही बढ़िया रहा है। भेड़िया पर किया गया कार्य बेहद सराहनीय है, देखें पृष्ठ संख्या 23। भेड़िया को एक बार फिर से पुराने रूप में देखकर अच्छा लगा।  

संवाद औसत और साधारण हैं, लेकिन ठीक ठाक हैं। संवादों पर कहीं भी ज़रूरत से ज़यादा जोर नहीं दिया गया है। उन्हें साधारण और साफ़ सुथरा रखा गया है।


कॉमिक के कमजोर पहलु:
  • भेड़िया और अश्वराज द्वारा संजीवनी की तलाश कुछ ख़ास रोचक या दिलचस्प नहीं लगी, जोकि हो सकती थी।
  • भेड़िया और अश्वराज के शस्त्रयुद्ध से उत्पन्न हुई चिंगारियां द्वारा हरा-भरा झड़ोदा जल कर खाक हो गया। माफ़ करना राज कॉमिक्स टीम, अब आपके पाठक थोड़े बड़े हो गए हैं रीजनिंग सुधारिये।
  • डोगा और योद्धा के बीच चौथी स्पर्धा खानापूर्ति से अधिक नहीं लगी। जब डोगा के लिए इस स्पर्धा में कोई मौका ही नहीं था, तो फिर यह स्पर्धा कैसी? अगर यह कहा जाता की केवल एक पवित्र आत्मा ही प्राका को मुक्त कर सकती है, तो दोनों प्रतियोगिओं के लिए बराबर का मौका होता। ऐसे में योद्धा की जीत महज एक औपचारिकता नहीं लगती। लेकिन एक ऐसा प्राणी जिसने कभी कोई हत्या न की हो!!! अरे भाई, कोई मुझे बताएगा की ऐसी स्पर्धा में भला डोगा का क्या काम? वह डोगा जिसका कोई भी काम बन्दूक और चाकू के बगैर पूरा नहीं होता।
  • एक तरफ ये कहा गया है की प्राका को केवल वही आज़ाद करवा सकता है, जिसने कभी कोई जान न ली हो, कोई अधर्म न किया हो। वही दूसरी ओर योद्धा एक विशालकाय जानवर का अंत करने के उपरान्त प्राका को आज़ाद करवाता है। मिश्रा जी यहाँ पर चूक गए हैं। अधर्म न करना एक अलग बात है और जान न लेना दूसरी। अरे भाई, जान तो जान है क्या फर्क की वो जानवर है या इंसान है। नेक कार्य के लिए बहाया गया रक्त भी लाल ही होता है।
  • डोगा और योद्धा के बीच व्यंग्यात्मक वार्ता जो सर्वसन्धि में देखने को मिली थी, वह यहाँ सर्वक्रांति में पूरी तरह से गायब है। एक हास्य में हास्य का होना बेहद ज़रूरी है।


कॉमिक के सशक्त पहलु:
  • आर्टवर्क सराहनीय है, पूरी टीम द्वारा मिलजुल कर अच्छा कार्य किया गया है।
  • पशुबुद्धि ने साबित कर दिया कि वह केवल जानवर ही नहीं, उसे आधे-इंसान के नाम से भी जाना जाता है। आधा ही सही, पर दिमाग वह भी रखता है।
  • सर्वनायक प्रतियोगिता और कलयुग में घट रही घटनाओं को एक दूसरे के साथ बहुत ही बढ़िया तरीके से जोड़ा गया है। समुद्रमंथन से पहली तामसिक शक्ति की उत्पत्ति और हिमालय पर भेड़िया एवं अश्वराज के हाथों उसका अंत। यह एक बढ़िया लेखक द्वारा एक अच्छी कहानी को दर्शाता है।
  • पुराने और लगभग भुला दिए गए किरदारों का पुनः आगमन पाठकों को निश्चित रूप से पसंद आएगा।


सर्वनायक श्रृंखला पर नकारात्मक प्रभाव डालने वाले कुछ तथ्य:

विस्तृत ब्रह्माण्ड रक्षकों और महाखलनायकों द्वारा सर्वमंथन मेरा मतलब समुद्रमंथन शुरू किया गया था आज से लगभग 10-12 महीने पहले (जून 2015 सर्वनायक भाग -5 में)। और अब जाकर यानी मार्च 2016 को पहली महाशक्ति प्रकट हुई है। पहली महाशक्ति को अवतरित होने में तक़रीबन  10-12 महीने लग गए। तो महारावण को रोकने वाली शक्ति कब जाकर प्रकट होगी? जिसके लिए ये सामुन्द्रमंथन किया जा रहा है। कब श्रृंखला का आखिरी भाग हाथों में होगा, इस बात का अंदाजा लगाना ज़रा मुश्किल है।

क्या आपको याद है कि नक्षत्र और विदूषक सर्वनायक श्रृंखला के कौन से भाग में आमने सामने आये थे? खैर याद तो मुझे भी नहीं था, पुरानी कॉमिक्स उठाई तब याद आया की वह कॉमिक "सर्वसंहार" यानि सर्वनायक भाग -4 थी, जिसमें दोनों  आमने सामने आये थे। यानी आज से तक़रीबन 12-14 माह पहले, दिसंबर 2014 के अंत में। अब तक यानी इन 12-14 महीनों में यह कहानी केवल दो कदम ही आगे बढ़ी है
कसूर सर्वनायक श्रृंखला का नहीं बल्कि कॉमिक के प्रकाशन के बीच के अंतराल का है
 
मैं यह कहना चाहता हूँ की हर भाग के जारी होने के बीच जो एक लम्बा अंतराल है, यक़ीनन चिंता का विषय है और होना भी चाहिए। सर्वनायक श्रृंखला 2013 के सेट नंबर 4 में जारी हुई कॉमिक "युगांधर" से शुरू हुई थी। आज इसे शुरू हुए लगभग 3 वर्ष पूरे हो गए हैं और पाठकों को अभी तक केवल 7 भाग ही पढ़ने को मिले हैं। अगर आप औसत गणना करते हैं, तो तकरीबन हर पांचवे माह एक नया भाग जारी हुआ है। सर्वनायक श्रृंखला में अगर पाठकों की दिलचस्पी को बनाए रखना है, तो हर तीसरे माह एक नया भाग प्रकाशित करना होगा। अन्यथा पाठक इस श्रृंखला से ऊबने लगेंगे। मुझे नहीं लगता कि नए भाग के जारी होने पर कोई भी पिछले भागों को दुबारा पढ़ना चाहेगा। आपका तो पता नहीं, लेकिन मुझे तो हर बार पुराने भाग फिर से पढ़ने पड़ते हैं। उम्मीद है की राज कॉमिक्स टीम ज़रूर इस पर कार्य कर रही होगी और सकारात्मक परिणाम हमें जल्द ही देखने को मिलेंगे। 


सर्वनायक श्रृंखला के सशक्त पहलु:

"सर्वनायक श्रृंखला" जो की हर युग और काल के महानायकों एवम महाखलनायकों से भरी पड़ी है। इतने अधिक किरदारों के साथ एक श्रृंखला और वह भी सर्वनायक जैसी, यह कोई आसान कार्य नहीं है। तारीफ करनी होगी नितिन मिश्रा जी की जिन्होंने हर किरदार और कहानी के साथ अब तक बखूबी न्याय किया है।

सर्वनायक श्रृंखला की वजह से पुराने और लगभग भुला ही दिए गए किरदारों का पुनः वापसी हुई है। जिसमे कई आला दर्जे के सुपरहीरो और खलनायक दोनों ही शामिल हैं। राज कॉमिक्स के पुराने और शुरुआती किरदारों का फिर से कॉमिक्स में लौटाना, पाठकों को निश्चित रूप से पसंद आएगा।

सर्वनायक श्रृंखला अपने आप में एक अनोखी और बेमिसाल श्रृंखला है। इस श्रृंखला के जरिये चारों युगों के महानायकों और खलनायकों को एक ही कहानी में एक साथ लाया गया है। ऐसी किसी श्रृंखला में कई सारी सामांतर कहानियों और किरदारों का होना बिलकुल लाजमी है। इसलिए मुझे नहीं लगता की सर्वनायक श्रृंखला के अधिक भागों से किसी को भी कोई शिकायत होगी।



तो दोस्तों, सर्वक्रांति के बारे में अपने विचार हमारे साथ ज़रूर बाँटें। आपको यह कॉमिक कैसी लगी? क्या अच्छा लगा? कहाँ सुधार होना चाहिए? यह हमें ज़रूर बताएं, कमेंट्स बॉक्स आपकी प्रतीक्षा में है और मैं भी। 

Review Sarvakranti Sarvnayak Series Pic 3   

Rate Please:                  


My Ratings: 3.5/5

RC Official Rating: N/A
Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

2 comments:

  1. Hi Ajay,
    Definitely a nice blog about the sarvakranti comics. You have not only well analyzed the comics but also highlighted the weak and strong aspects of the story in a proper way.
    In my opinion, the hard work should always be praised; but it should not go as a false statement. The criticism from the fans, is what makes the creative team do more for their target audience.
    Not only the storyline and artwork, but also the publication timings are also a great concern for the fans. As you rightly mentioned that a series's each part should release every 3 months (i.e. in every consecutive set). Although fans will read the upcoming parts, no matter how much time it takes to release, they will be skeptical to start a new one in future.
    Well, for now, all the best for your writing. And all the very best to Raj comics, the last surviving Indian comics industry.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ohh Man, how had I missed your comment 😕 !!!
      I'm very sorry Abhijeet bro, I just read it today. Anyways, thank for your valuable comment and your feedback 😍
      Yes, you are very true about criticism, and I hope the other fans and mainly Raj Comics team would also take it in a positive manner. After all, Raj Comics hai hum sabka JANOON. And we'll keep this alive forever.😀

      Delete