Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Nirmulak Kranti Raj Comics – Strong & Weak Sides

Review Nirmulak Kranti From Doga Unmoolan Series


Nirmulak’s campaign has reached its final phase. His campaign to eliminate the crime and Doga from Mumbai is just a few moments away from the destruction of Dhaara Nagri. But now Doga has also come out of unconsciousness. And after the accident, Monica is also out of danger now. On the other hand, Nirmulak and Pandey have been exposed. Now Yusuf knows their reality that how much loyal they both are. Inspector Teja has also got answers of some of his questions. Now, all knows that who is the real enemy of Mumbai. We have also seen some childhood glimpse of this real enemy Nirmulak i.e Ansh with Suraj. And now there will be a straight fight between Doga and Nirmulak, in the upcoming and decisive part of the series "Doga Ast".
So it was the Story Summary of Comics Nirmulak Kranti. Now let's start the discussion, the review of comics Nirmulak Kranti.




Review-Nirmulak-Kranti-Raj-Comics-Doga-Unmoolan-Series-Pic-1 Rate Please: 



My Ratings: 3.5/5 

RC Official Rating: N/A 


Code: SPCL-2612-H
Pages: 64
ISBN: 9789332427204
Language: Hindi
Colors: Four
Author: Mandar Gangele
Penciler: Dildeep Singh, Sushant Panda
Inker: Vinod kumar
Colorist: Prasad Patnayak, Bhakta Ranjan
Pages: 64
Price: Rs. 60.00


Let's start with the story, the story of this comics is not much interesting. The pace of the story is fine, a lot have been shown in 60 pages. But the story has failed to maintain the reader's interest, as it was succeeded in the previous parts. Despite having a lot of characters and events, Ansh and Suraj dominated in most of the story. Altogether 25 pages, it can be said that half of the comic is focused on the childhood of Ansh and Suraj. Doga and Nirmulak who are the main characters, both did not get much pages in the comic. They both have failed to make their mark in this comic because the story revolves around the other characters and events.

I was feeling that something is missing in the story. But I didn't figure it out, what exactly is missing? It took quite a while to understand that the story which is at its peak and about to end is lacking something. Well, it's not my fault. This is just because I have not seen the end of a comic series since a long time. The last finished comic series was "Narak Nashak Origin Series", and that was completed almost 2 years ago (Released in the 1st set of 2015). And after that now "Doga Unmoolan" will be the next. Let's come back to the point, so, what is lacking? The story which is now moving towards a conclusion, it should be focused on 2 main points. The first, Nirmulak and his elimination campaign. And the second, aggressive comeback of the wounded lion of Lion Gym, I mean the return of Doga. Both should be the main attractions of the story. But it has not happened so far. Instead of this, the story has been more focused on the childhood of Ansh. Ansh's childhood story are being shown continuously from the last two comics, and this is the third one. The series is going to end in the next part, and Ansh's childhood story has not finished yet. Obviously, it will be finished in the final part. And this will surely reduce the pages and space for Nirmulk and Doga, in the final and conclusive comic. Due to this, the final and decisive comic of the series could lose its charm.

Let's move towards the artwork, so far the best thing about the series was its artwork. As compared to the previous parts, the artwork of this comics does not hold much. Penciling has been done badly in a few frames, faces have been darkened. See page numbers 10, 15 and 20. The coloring is also not accurate on some pages. Especially in the beginning part of Suraj and Ansh childhood story, in the freight train. Overall, the artwork is average. Cannot be said great, but it is okay. From the leading Indian comics book publication, I always expect the best, not the average.

About the dialogues, dialogues are much higher than the pictures. In the police station scenes, the dialogue of Shonali, Teja, and Rajni are too long. Their dialogues have filled the pages completely. In a few pages, pictures are buried under the dialogues. Elsewhere the dialogues are well, are okay. Marathi dialogues of the Mumbai police constables are interesting and excellent. Readers will be surely enjoyed the Mumbiya feeling.


Weak Parts of Nirmulak Kranti Comics 👎:

  • Injured Monica is shown seated on the front seat of police jeep. Don't you think, the back seat would be much better for an injured person, where he can lie down comfortably. See the last frame of page no.8, Cheeta is comfortably sitting on the back seat and the injured and unconscious Monika is on the front seat tied with the seat-belt. Give a look, how does it feel to see.
  • Page 17, Shonali hit her hand harder on the table, her right hand. On the very next page, she is showing her injured hand to Teja (the same right hand). In the Previous Comics Doga Ansh, Nimulak had injured her hand with a knife, and remember that the knife went across her hand. Despite the knife injury, Shonali hit her hand on the table so hard, and she did not scream or feel pain. Oh man, it is Doga who can easily bear the biggest pain. And here, she is Sonali, just an ordinary girl. If I hit my injured hand on a table, no doubt I too scream so loud. Then why Shonali had not felt the pain? And why did not she screamed? Here both the writer and illustrator made a mistake.
  • Lakkad's right leg is made of wood, it's an artificial leg, not real. In every scene, it is shown made of wood. But in the first frame of Page 43, the same right leg of sleeping Lakkad is shown safe and sound. Whereas it should be shown made of wood. Here is another mistake in the drawing.
  • Page 56 Frame 3, there are just 2 knives on Nirmulak's costume. But the next pages have been shown more than 2 knives. Here is one more mistake by the artist.
  • Page 26 last frame, a man at the bar gives Rs 500 notes to Radhika, and Radhika takes the money. But the old notes of Rs 500 have been stopped, they are out of currency now. What she did not know about it? Hey wait, you do not need to pick up the comic to check. Man, I was just joking 😜. This story is of several years ago, and that notes are of Rs 50.

The strength of Comics Nirmulak Kranti 👍:

  • Doga got a total of just 12-14 frames in this comic, yes, of course, it’s a weak side. But the artwork is simply fantastic in these frames. These frames have succeeded in leave their mark. Especially, look at the 3rd frame of page no.31.

Overall, Nirmulak Kranti is an average comic. If you have read the previous comics of Doga Unmoolan, then you should read it too. But I must say one thing, the feeling and the excitement that comes while reading Doga comics is missing somewhere in this comic. Well, the comic is not so bad, it could entertain you. 

Friends, please share your views with us about this comic, you are most welcome. See you again on the review of next and final part "Doga Ast". Until then, read other reviews and stories.



You Might Also Like to Read the Review of Previous Part 'Doga Dhwast': 

Review - Doga Dhwast



हिंदी के लिए नीचे देखें
Scroll Down to Read in Hindi

Review-Nirmulak-Kranti-Raj-Comics-Doga-Unmoolan-Series-Pic-2


समीक्षा निर्मूलक क्रान्ति | डोगा उन्मूलन सीरीज -7


निर्मूलक का अभियान अपने अंतिम चरण पर पहुंच गया है। उसका डोगा और अपराध उन्मूलन का यह अभियान, धारा नगरी को तबाह करने से बस कुछ ही क्षण दूर है। लेकिन अब डोगा भी बेहोशी के हालत से बाहर आ चुका है। साथ ही मोनिका जिसका एक्सीडेंट हुआ था, वह भी अब खतरे से बाहर है। दूसरी ओर, निर्मूलक और पांडे का पर्दाफाश हो गया है। अब यूसुफ उनकी हकीकत जानता है कि वे दोनों कितने वफादार हैं। और इंस्पेक्टर तेजा को भी कई सवालों के जवाब मिल गए हैं। कुलमिलाकर अब सभी जान गए हैं की असली दुश्मन कौन है। इस असली दुश्मन निर्मूलक यानी अंश का बचपन जोकि कुछ समय सूरज के साथ बीता उसकी कुछ घटनाएं भी देखने को मिली। और अब होगा सीधा मुकाबला डोगा और निर्मूलक के बीच अगले और निर्णायक भाग "डोगा अस्त" में। 
तो ये था कहानी सार कॉमिक्स "निर्मूलक क्रान्ति" का। आईये अब शुरू करते हैं समीक्षा निर्मूलक क्रान्ति कॉमिक्स की।

शुरू करते है कहानी से, इस भाग में कहानी कुछ ख़ास रोचक नहीं रही। कहानी की गति ठीक है, 60 पृष्ठों में काफी कुछ दिखाया गया है। लेकिन कहानी पाठकों को उस हद तक बाँध पाने में असफल रही, जैसे की पिछले भागों में बांधे हुए थी। कहानी में कई किरदार और काफी सारी घटनाओं के बावजूद, कहानी के अधिकतर भाग में अंश और सूरज ही छाए रहे। कुल मिलाकर 25 पृष्ठ, आप कह सकते है की आधी कॉमिक अंश और सूरज के नाम रही। डोगा और निर्मूलक जोकि मुख्या किरदार हैं, दोनों को ही कहानी में कुछ अधिक जगह नहीं मिली। कहानी अन्य किरदारों और घटनाओं के इर्द-गिर्द ही घूमती रही। 

कहानी में मुझे कुछ कमी सी लग रही थी, लेकिन मैं समझ नहीं पा रहा था की आखिर वो कमी है क्या? काफी देर लगी मुझे यह समझने में की कहानी जोकि अपने चरम पर है, अपनी समाप्ति की और है, उसमे कमी है। खैर, इसमें मेरी कोई गलती नहीं है। वो क्या है की एक लंबे अरसे से किसी श्रंखला की समाप्ति नहीं देखी न, इसीलिए। आखिरी समाप्ति हुई कॉमिक श्रंखला थी "नरक नाशक", और उसके बाद अब होगी डोगा उन्मूलन। हाँ तो क्या कमी है? समाप्ति की और बढ़ रही कहानी में 2 मुख्या जगहों पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए था, पहला निर्मूलक और उसका उन्मूलन अभियान और दूसरा घायल शेर की आक्रामक वापसी, मेरा मतलब डोगा की दनदनाती वापसी। यह दोनों मुख्य आकर्षण होने चाहिए थे। पर ऐसा अभी तक तो कुछ हुआ नहीं। लेकिन इसके विपरीत, अंश के बचपन की कहानी पर अधिक ध्यान केंद्रित किया गया है। अगले भाग में श्रंखला समाप्त हो जाएगी, लेकिन "डोगा अंश" से यानी पिछली 2 कॉमिक्स से सुनाई जा रही अंश की कहानी अभी तक समाप्त नहीं हुई। जाहिर है अंतिम भाग में ही समाप्त होगी, तो ऐसे में डोगा और निर्मूलक के लिए पृष्ठ घटेंगे ही घटेंगे, आकर्षण तो फीका पड़ेगा ही पड़ेगा।

चलते हैं आर्टवर्क की तरफ, इस श्रंखला की सबसे अच्छी बात थी इसका आर्टवर्क, लेकिन पिछले भागों के मुकाबले इस कॉमिक्स के आर्टवर्क में वो बात नहीं है। कहीं कहीं पर पेंसलिन्ग बहुत ख़राब हुई है, चेहरे काले पड़ गए हैं। देखें पृष्ठ संख्या 10, 15 और 20। कलरिंग भी बीच-बीच में ख़राब हुई है। खासकर अंश और सूरज की कहानी के शुरुआत में, मालगाड़ी वाला हिस्सा। आर्टवर्क कुलमिलाकर औसत है। बढ़िया नहीं कहा जा सकता, लेकिन ठीक-ठाक है। अग्रणी भारतीय कॉमिक्स बुक्स पब्लिकेशन से मैं हमेशा सबसे अच्छे की उम्मीद करता हूँ, नाकि औसत की।

संवादों की बात करें तो, कॉमिक्स में चित्रों के मुकाबले संबाद काफी अधिक हैं। पुलिस स्टेशन वाले दृश्यों में शोनाली, तेजा और रजनी के संवाद बहुत लंबे हैं। इनके संवादों ने पृष्ठों को पूरी तरह भर दिया है। कुछ पृष्ठों में चित्र दब गए हैं और संवाद ज्यादा दिख रहे हैं। इसके अलावा बाकी जगहों पर संवाद ठीक है, बेहतरीन हैं। मुम्बई पुलिस हवलदारों के मराठी संवाद रोचक बढ़िया हैं। पाठकों को मुम्बइया फीलिंग आ गयी होगी। जैसे की, "काय लफड़ा आहे", "स्पीड लिमिट ची तर आई-बहिण करून ठेवली आहे", "ज्यास्ती मचमच नको करू मुली"।


निर्मूलक क्रांति कॉमिक्स के कमजोर हिस्से 👎:

  • इंस्पेक्टर तेजा घायल मोनिका को फ्रंट सीट पर बिठाये हुए है। क्या आपको नहीं लगता कि घायल इंसान के लिए पिछली सीट ज्यादा बेहतर होगी, जहाँ उसे आराम से लिटाया जा सकता है। पृष्ठ 8 की आखिरी फ्रेम देखिये, चीता आराम से पीछे बैठा है और घायल और बेहोश मोनिका सीट-बेल्ट से बंधी फ्रंट सीट पर है। ये देखने में कैसा लग रहा है, आप खुद ही देख लीजिए।
  • पृष्ठ 17, शोनाली अपना हाथ टेबल पर जोर से मारती है, राइट हैंड। अगले ही पृष्ठ पर वह तेजा को अपना घायल हाथ दिखती है (राइट हैंड), जोकि पिछली कॉमिक डोगा अंश में, निर्मूलक ने चाकू से घायल किया गया था। याद रहे चाकू हाथ के आर पार हो गया था। अरे यार, वह डोगा है जो बड़े से बड़ा दर्द आसानी से बर्दाश्त कर लेता है और ये शोनाली है लोमड़ी की ड्रेस में। घायल हाथ को टेबल पर इतनी जोर से मारने के बाद तो मैं भी चीख पडूंगा, फिर ये तो बेचारी शोनाली है। चाकू के ज़ख्म के बावजूद शोनाली ने इतनी ज़ोर हाथ टेबल पर मारा, और उफ़ तक नहीं की। यहाँ लेखक और चित्रकार दोनों से चूक हुई है।
  • मालगाड़ी वाले दृश्यों में पप्पन ने पीली पेंट के साथ जामुनी शर्ट पहनी हुई है। लेकिन वहां से निकलते ही, जीप मैं पप्पन को नीली पेंट और पीली शर्ट पहने दिखाया गया है। क्या उसने रास्ते में ही कपड़े बदल लिए? यहाँ चित्रकारी में एक और हलकी सी चूक हुई है।
  • लक्कड़ का दायाँ पैर लकड़ी का है, यह एक कृत्रिम पैर है, असली नहीं है। हर दृश्य में यह लकड़ी का बना हुआ दिखाया गया है। लेकिन पृष्ठ 43 की पहली फ्रेम में, सोते हुए लक्कड़ का दायाँ पैर सही सलामत दिखाया गया है।  जबकि यह लकड़ी का होना चाहिए, या फिर होना ही नहीं चाहिए (अगर सोते वक़्त उतार दिया हो तो)।  यहाँ ड्राइंग में एक और गलती है।
  • पृष्ठ 56 फ्रेम 3, निर्मूलक की कॉस्ट्यूम पर केवल 2 ही चाक़ू हैं। लेकिन अगले पृष्ठों पर फिर से कई चाक़ू दिखाए गए हैं। यहाँ आर्टिस्ट ने एक और गलती की है।
  • पृष्ठ 26 की आखिरी फ्रेम, बार में एक आदमी राधिका को 500-500 के नोट देता है और राधिका ले लेती है। लेकिन पुराने नोट तो बंद हो गए हैं, क्या राधिका को इसका पता नहीं? अरे रुकिए, कॉमिक उठा कर देखने की जरूरत नहीं है। यार, मैं तो बस मजाक कर रहा था 😜 । ये घटना कई साल पहले की है और वो नोट भी 50-50 के हैं, नाकि 500 के। 

निर्मूलक क्रांति कॉमिक्स के मजबूत पक्ष 👍:

  • इस कॉमिक में डोगा को कुल 12-14 फ्रेम्स ही मिली, लेकिन इन फ्रेम्स में आर्टवर्क बढ़िया हुआ है। ये फ्रेम्स अपनी छाप छोड़ने में सफल रही हैं। खास तौर पर पृष्ठ 31 की तीसरी फ्रेम।


कुलमिलाकर निर्मूलक क्रान्ति औसत कॉमिक है। अगर आपने इस श्रंखला की अन्य कॉमिक्स पढ़ी हैं तो इसे भी जरूर पढ़ें। लेकिन एक बात जरूर कहूंगा, डोगा की कॉमिक्स पढ़ते समय जो फीलिंग आती है, जो एक्ससाइटमेंट होती है, वह इस कॉमिक में कहीं न कहीं गायब है। खैर कॉमिक इतनी बुरी नहीं है की आपका एंटरटेन न कर सके। 

दोस्तों, इस कॉमिक के बारे में अपने विचार हमारे साथ साझा करें, आपका तहे दिल से स्वागत है।
तो फिर मिलेंगे अगली यानि "डोगा अस्त" की समीक्षा में। तब तक पढ़िए अन्य समीक्षाएँ और कहानियां।

Review-Nirmulak-Kranti-Raj-Comics-Doga-Unmoolan-Series-Pic--3


Rate Please: 



My Ratings: 3.5/5 

RC Official Rating: N/A 


Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

1 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete