Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Sarvsandhi

 Review - Sarvsandhi 


Review Sarvsandhi Pic 1Your Ratings:    




My Ratings: 4.5/5

RC Official Rating: N/A


Format: Printed
Issue No: SPCL-2595-H
Language: Hindi 
Author: Nitin Mishra 
Penciler: Sushant Panda, Hemant Kumar 
Inker: Vinod Kumar, Ishwar Art, Swati C 
Colorist: Basant Panda, Abhishek, Bhakta R 
Pages: 96 
Price: Rs 90.00




Sarvsandhi the sixth part of the Sarvnayak series fully goes to Doga, Yoddha and Yugam. The most eagerly awaited in this comic was the combat between Doga and Yoddha. And that is shown quite detailed. The readers would be extremely happy from this. On the other hand readers get the answers to some of the other parallel stories and some are still ongoing.


Story Sarvsandhi:

Scene 1: Introduction: Shakti Parikshan, Kaalran, Yugamkhsetra - The Gods (Dev) are worried about the destruction happening in all the four eras. And Asur king Shambook is angry by the killing of Mithyakaar. So they both Gods (Dev) and the Demons (Asur) are gathered in front of Yugam in Kaalran, Yugamkhsetra. Yugam gets angry on the allegation by Asur king Shambook. But upon Nardmuni intervention Yugm had done Sarvsandhi in between Gods and Demons. So there will no war anymore between Gods and Demons from now. And this Sarvsandhi will be valid until the end of the Sarvnayak competition.

Scene 2: Chapter I - Bhedaksh Ka Aagman - Bhedaksh arrives in the jungles of Assam with Gururaj Bhatiki. At where Tureen, Shutan, Atikroor and their fellow are fighting against Bhediya's old enemies Kaigula, Dodand, Elfaanto etc. Bhedaksh stops their fight and request all of them to find the Shaktipunj. But in actually Bhatiki and Bhedaksh are working on their own different plan. 


Scene 3: Chapter II - Sarvbal Parakrami - After Tiranga, Tilismdev is also taken captive by the Kalmurtis. Meanwhile, the next competition starts in between Barood Putra Doga and Dev Sheromani Yoddha. In the first phase of the competition, on Gurutvabhoomi both will have to break the diamond plateaus with the help of each other's body during the fight. In the first phase of the competition Doga was on the top but at the end Yoddha wins the competition. 

The second phase of the competition begins on Laghughati's planet. Laghughati will never defeat in any battle, they are blessed by God Kartikey. Since they have been in existence, since then been divided into two groups and fighting with each other constantly. Doga and Yoddha represent the groups of Laghughati's in this competition. And these two groups will fight to the representative of the opposition instead of fighting each other. The group will lose the battle whose representative will be captive first.  

Scene 4: Chapter III - Haruniti part (1) - In asurlok, demon masters Shukracharya called the Haru's representative for treaty. Shukracharya tells to the Haru's representative that earth is the origin of the all dimensions and the eras. Representatives of the gods, the superheroes are engaged in the Sarvnayak Competition at this time. Taking advantage of this situation Shukracharya offers to Haru's representative to eradicate the superheroes, earth and Gods. In return he promised to give arms, force and everything which they will need in this work. Haru's representative accepts the proposal of Shukracharya.


Scene 5: Chapter – III - Haruniti Part (2) - In the early period of the Earth, Mahamanav have been fighting against the Haru's. Suddenly Glalagicha reached there and now he is with him in the fight against Haru’s. During the fight Glalagicha tells Mahamanav that how he came here. He says I, you and Chandkaal were imprisoned in Swarn Nagri. Suddenly a strong explosion was happened there and a man opened the door of the energy dimension. Firstly he sent Chandkaal across the doorway. But before that man sends both of us across the energy dimension door, two more man arrived there and they have started fight. What happened after that? I do not remember anything, I’ve just found myself here. Mahamanav says that he too remembers only that. During the conversation of Mahamanav and Glalagicha, Haru's gets a strong chance to attack them. Haru's takes full advantage of this opportunity and explode both of them.


Scene 6: Chapter IV - Laghughati's Planet - Now in the second phase of the competition, Doga and Yoddha will represent Laghughati's groups and will fight by their side. Because of blessing received from the Lord Kartikeya, Laghughati's will not ever defeat in any fight. So now the difficulties for Doga and Yoddha have increased. After long enough fight, Doga uses his brains and compromised between the both Laghughati groups. With this compromise Doga wins the second phase of the competition.


Scene 7: Chapter V - Paapkshetra - Anthony and Jacob had become powerless and were unconscious because of the contaminated blood. By sprinkling blessed Gangajal Lori brings them in consciousness. On regaining consciousness they both see that everybody disappeared from the cave except them. Then Kapal Kundala reaches there and suggests them to find Agham. Lori says, to spreading the sin Dracula and Sagham have moved to the earth. Anthony replied that Brahmaand Rakshak will stop them. Lori then tells him about what is happening currently. Anthony asks Lori and Kapal Kundla that how they know so much detailed. Lori says, in addition to Brahmaand Rakshak and Vistrit  Brahmaand Rakshak there is one more organization who is keeping an eye on all these incidents. And the name of that organization is P.V.N Paralokik Vigyan Nayakgan. The organization was established by Vedacharya and Nastredamus. Lori, Kapal Kundla, Venu, Kishor and Faceless are the members of this organization. After the conversation Anthony, Jacob, Lori and Kapal Kundla get together to find Dracula and Sagham but before their starting the son of darkness the Nishachar withholds their way.


Scene 8: Chapter VI - Shastra Shiromani - In the third phase of the competition, Doga and Yoddha has reached at the Ayuddhgaar dimension. All such weapons which are available in the universe are present in this dimension. To become the winner of the competition, competitor must be disarmed his opponent. But there is a special condition in this phase of competition. The competitors can use only those weapons which they have not used before. Competitor may only be injured by these weapons but can’t die. Doga with mythological weapons and Yoddha with sophisticated weapons began to attack each other. The fight goes on for a long time simply without any conclusion. Finally, attacks of both hits each other and both gets unconscious. Yoddha gets disarmed by the last attack of Doga. And Doga become the winner. Yugam brings back the both unconscious Doga and Yoddha to Yugmkshetr. Doga and Yoddha both now at the state of coma and they need lifesaving herb (Sanjeevani Booti) to wake up from the coma. Both team leaders have to choose their representative, who will go to the Himalayas and brought the lifesaving herb. Whose team mate obtains the lifesaving herb first will deserves it. Both the team leaders choose Bhediya and Ashwaraj from their respective teams for this job. And now the two best human-animals of the universe have moved to Himalayan Mountains in search of the lifesaving herb.


Scene 9: Appendix Chapter Last Chance – Caliph’s of the galaxies arrested Gagan and Vinashdoot along with Grahno and now they has out to destroy the Earth. The Earth is becoming the center point of sin powers and those sin powers will also target other planets and galaxies in the future. That’s why the Caliph's want to destroy the earth along with the sin powers. On this last opportunity Grahno asks Gagan and Vinashdoot to adopt his powers. So they will get more powers and succeed to stop the destruction of Earth by Caliphs. Soon after Gagan and Vinashdoot are free and they attacked on Caliphs.


Review Sarvsandhi:

The comic is absolutely great, complete entertainment. The story or it will be fair to say the competition has become even more interesting. The other stories running parallel with the main story were also presented in a very impressive manner. The comic Sarvsandhi was eagerly awaited by all the readers and the wait was not meaningless at all. Let me tell the readers that the ongoing competition between Doga and Yoddha is not finished yet but the excitement has now increased even more by the joining of Bhediya and Ashwaraj. 

In few scenes artwork is a little messed up, but overall it is brilliant. Because of many different types of characters and scenes the artist's work becomes quite difficult. In such the brilliant artwork of this kind is really appreciable. God, demon, alien etc all these has increased the work on the language and words. But Raj Comics comic team has focused on every little aspect. Little humor and tempting dialogue were placed perfectly in the serious ongoing story. And I heartily appreciate that, dialogues and humor was awesome. Whole Raj Comics team deserves applauds especially Nitin Mishra, Shushant Panda, Hemant Kumar, Neeru and Mandar Gangele.



Weak Sides of the Comic:

  • Numerous of parallel stories are running in this story. Readers would have forgotten many of them. When a previous incomplete story is continued in a new comic, many readers would surely say "Ohh .... I was just forgotten about it”. In other words, memorizing the whole previous story until the arrival of the next part is just like memorizing a lecture of the bygone semester.
  • In the first first phase of the competition Doga and Yoddha will have to break the plateaus using each other's body. And the important thing is that plateaus are made up of diamond. I am surprised that they broke all the diamond plateaus using each other’s body during the fight. I think that either I am wrong in chemistry or maybe Gurutvabhoomi diamonds are of different quality. Now this point could be better described by either Avadhi or Yugam.
  • In the first phase of the competition Doga came to the battlefield without having any kind of arms. He was totally weaponless. But in 2-3 scenes during the fight Doga is shown wearing "Bullet Belt" and the rest of the scenes shown totally weaponless. A slightest mistake is in the drawing over here.
  • Page numbers 56 and 64, *Read to know more Bhokal's........"Laghughati" and *Read to know more........"Dracula Ka Ant". What to know? Not been told. I want to say, the star sign has not been featured along with the dialogues of Bhokal and Anthony on the page 56 and 64.
  • Page 84 frame number 3, Yugm's dialogue number 3: "The Amoghastra’s attack by Ravana had brought Laxman into the state of coma". I would like to highlight over here, the Amoghastra attack was done by Meghnaad. It was not Ravana who used Amoghastra. Here is a major mistake. A huge mistake by the Time Guardian (Yugam) in such historical and best-known incident, this is unbelievable. Yugm Bhulatri Asya.

 

Strong Side of the Comic: -

  • Action, adventure, Suspense, Comedy, Twist, Emotions everything is present in this comic and in the right amount.
  • Story, drawing, inking, coloring, artwork, dialogue everything is fine. Has no room for any reduction.
  • Doga is the pride and the life of Raj Comics. I mean to say he is one of the main characters. Doga have much higher number of fans in compare to Yoddha. I thought that somehow only Doga will be shown winning the competition. But it is not happened at all. Of course, this time Doga is leading in the competition. But in all the three phases of this competition, Doga and Yoddha both gave a tough competition to each other. Victory and defeat of both the competitors are completely logical. Neither the fans of Doga will complain nor the fans of Yoddha.

Overall it is a worth reading comic. One of the finest comic released in 2015. Must Read this comic, if you have not read it, then I would say you missed to enjoy this excellent comic.

 
You might also like: 

Review - Sarvmanthan

 हिंदी के लिए नीचे देखें
 Scroll Down to Read in Hindi

Review Sarvsandhi Pic 2
 

सर्वसन्धि - सर्वनायक श्रृंखला का छठा भाग डोगा, योद्धा और युगम के नाम रहा। इस कॉमिक्स में सबसे ज्यादा बेसब्री से जिसका इंतज़ार किया जा रहा था वो था, डोगा और योद्धा के बीच मुकाबला। जिसको काफी विस्तार पूर्वक दिखाया गया है। पाठक इससे बेहद खुश होंगे। दूसरी और सर्वनायक प्रतियोगिता के साथ चलती हुई अन्य घटनाओ में से कुछ के जवाब मिले और कुछ अभी भी जारी हैं। 


कहानी सर्वसंधि :

दृश्य 1: प्रस्तावना: शक्ति परिक्षण - कालरण, युगमक्षेत्र - कहानी शुरू होती है कालरण युगमक्षेत्र से जहाँ चारों युगों में मचे हाहाकार से चिंतित देव और मिथ्याकार के वध से क्रोधित असुरराज शम्बूक युगम के समक्ष आये हैं। असुरराज शम्बूक युगम को क्रोधित कर देता है परन्तु नारदमुनि के हस्तक्षेप करने पर युगम देव और असुरों में सर्वसन्धि करवा देता है। यानी अब देवासुर संग्राम नहीं होगा और ये संधि सर्वनायक प्रतियोगिता के अंत तक मान्य होगी।

दृश्य 2: प्रथम अध्याय - भेडाक्ष का आगमन - भेड़िया पुत्र भेडाक्ष गुरुराज भाटिकी के साथ आसाम के जंगलों में आ पहुँचता है। जहाँ तुरीन, शूतान, अतिक्रूर और उनके साथी भेड़िया के पुराने दुश्मनों काइगुला, दोदंड, एल्फ़ान्टो इत्यादि से लड़ रहे हैं। भेडाक्ष उनकी लड़ाई को रोकता है और अपना भेड़िया पुत्र होने का सबूत देकर मौजूद सभी लोगों को शक्तिपुंज तलाशने को कहता है। लेकिन असल में भेडाक्ष और भाटिकी अपनी किसी अलग योजना पर कार्य कर रहे हैं।


दृश्य 3: द्वितीय अध्याय - सर्वबल पराक्रमी -
तिरंगा के बाद तिलिस्मदेव को भी कालमूर्तियां पकड़कर ले जाती हैं। इसी बीच अगली प्रतियोगिता शुरू हो जाती है जिसमे आमने-सामने हैं बारूद पुत्र डोगा और देव शिरोमणि योद्धा। पहली स्पर्धा में दोनों को गुरुत्वाभूमि पर मल्ल युद्ध करते हुए एक-दूसरे के शरीरों से हीरे के पठारों को तोडना है। पूरी स्पर्धा में डोगा योद्धा पर भारी पड़ता है लेकिन अंत में जीत योद्धा की होती है। दूसरी स्पर्धा शुरू होती है लघुघतियों के ग्रह पर। लघुघाती जिन्हे शिव पुत्र कार्तिकेय द्वारा युद्ध में कभी न हारने का वरदान प्राप्त है। जब से ये अस्तित्व में आये हैं तब से ये दो गुटों में बँट कर निरंतर आपस में युद्ध कर रहे हैं। इस स्पर्धा में डोगा और योद्धा को इनके गुटों का प्रतिनिधित्व करना है और ये दोनों गुट एक-दूसरे से लड़ने की वजए विपक्षी प्रतिनिधि से युद्ध लड़ेंगे। जिस गुट के प्रतिनिधि को पहले बंदी बना लिया जाएगा वो गुट हार जाएगा। 


दृश्य 4: तृतीय अध्याय - हरुनीति भाग (1) - असुर गुरु शुक्राचार्य ने हरुओं के प्रतिनिधि को संधि के लिए असुरलोक बुलाया है। शुक्राचार्य हरु प्रतिनिधि को बताता है की देवताओं की सृष्टि और सभी कालों और आयामो का मूल केंद्र पृथ्वी है। देवताओं के प्रतिनिधि यानी महानायक इस समय सर्वनायक प्रतियोगिता में उलझे हुए हैं। इस स्तिथि का फायदा उठाकर शुक्राचार्य हरु प्रतिनिधि के समक्ष पृथ्वी,देव और महानायकों के समूल नाश करने का प्रस्ताव रखता है। इसके बदले वह वर्तमान में अशकत हरुओं को शस्त्र, सेना और वो सब कुछ देने का वादा करता है जिसकी उन्हें इस काम में ज़रूरत होगी। हरु प्रतिनिधि शुक्राचार्य का प्रस्ताव स्वीकार कर लेता है।


दृश्य 5: तृतीय अध्याय - हरुनीति भाग (2) - पृथ्वी के आरंभिक काल में महामानव हरुओं से लड़ रहा है की तभी गलालागीचा भी वहां पहुँच जाता है और हरुओं के विरूद्ध लड़ाई में उसका साथ देता है। गलालागीचा लड़ाई के दौरान महामानव को बताता है की वो किस तरह से यहाँ पहुंचा। वो कहता है की मैं, तुम और चण्डकाल स्वर्ण नगरी में सुप्त अवस्था में कैद थे। अचानक एक शख्स ने वहां एक ज़ोरदार विस्फोट किया और ऊर्जा आयाम द्वार खोलकर सबसे पहले चण्डकाल को उस द्वार के पार भेजा। इससे पहले वो शख्स हम दोनों को भी आयाम द्वार के पार भेजता दो और शख्स वहां आ पहुंचे और उनमे युद्ध शुरू हो गया। फिर उसके बाद क्या हुआ मुझे कुछ भी याद नहीं। बस मैंने खुद को यहाँ पाया। महामानव कहता है की उसे भी बस इतना ही याद है। इस बातचीत के दौरान महामानव और गलालागीचा हरुओं को हमला करने का मौका दे बैठते हैं। हरु इस मोके का पूरा फायदा उठाते हैं और उन दोनों पर एक ज़ोरदार विस्फोट करते हैं जिसमे दोनों का नामोनिशान मिट जाता है।


दृश्य 6: चतुर्थ अध्याय - लघुघतियों का ग्रह - स्पर्धा के दूसरे चरण में डोगा और योद्धा को अब लघुघतियों के गुटों का प्रतिनिधित्व करते हुए उनकी तरफ से लड़ना है। शिव पुत्र कार्तिकेय द्वारा  प्राप्त वरदान की वजह से लघुघाती युद्ध में कभी हार नहीं सकते। इसलिए डोगा और योद्धा की मुश्किलें अब और बढ़ गयी हैं। डोगा अपना दिमाग चलाता है और उक्ति लगाकर लघुघातिओं के दोनों गुटों में संधि करवा देता है। इसके साथ ही दूसरी स्पर्धा डोगा के नाम हो जाती है।


दृश्य 7: पंचम अध्याय पापक्षेत्र - दूषित रक्त के कारण शक्तिविहीन पड़े एंथोनी और जैकब पर अभिमंत्रित गंगाजल छिड़क कर लोरी उन्हें होश में लाती है। होश में आने पर दोनों देखते हैं की गुफा में उनके अलावा बाकि सब बेबी, प्रेत मंडली, ड्रैकुला, सघम इत्यादि गायब हैं। तभी कपाल कुण्डला भी वहां आ पहुंचती है और उनको अघम को ढूंढने का सुझाव देती है। लोरी कहती है की ड्रैकुला और सघम पूरी धरती को पाप क्षेत्र बनाने निकल चुके हैं। एंथोनी कहता है की ब्रह्माण्ड रक्षक उन्हें रोक लेंगे। तब लोरी उन्हें मौजूदा घट रही घटनाओं के बारे में बताती है। एंथोनी पूछता है की लोरी और कपाल कुण्डला को इतना विस्तारपूर्वक कैसे पता है। लोरी बताती है की ब्रह्माण्ड रक्षकों और विस्तृत ब्रह्माण्ड रक्षकों के अलावा एक और संगठन है जो इन सारी घटनाओं पर नजर रखे हुए है और वो है पवन यानी परालौकिक विज्ञानं नायकगण। वेदाचार्य और नास्त्रेदमस द्वारा लोरी, कपाल कुण्डला, वेणु, किशोर और फेसलेस को एकजुट कर के इस संगठन की स्थापना की गयी। एंथोनी, जैकब, लोरी और
कपाल कुण्डला मिलकर ड्रैकुला और सघम को खोजने निकलते हैं की तभी रात का बेटा निशाचर उनका रास्ता रोक लेता है। जो न जाने कैसे आज़ाद हो चुका है।


दृश्य 8: षष्ठम अध्याय शस्त्र शिरोमणि - स्पर्धा के तीसरे चरण में डोगा और योद्धा जा पहुंचे हैं आयुद्धगार आयाम में। ब्रह्माण्ड में पाए जाने वाले हर तरह के हथियार इस आयाम में मौजूद हैं। इस स्पर्धा का विजेता बनने के लिए अपने प्रतिद्वंदी को निरस्त्र करना ज़रूरी है। लेकिन इस स्पर्धा की ख़ास शर्त ये है की प्रतियोगी केवल उन हथियारों का ही प्रयोग करेंगे जिनका उन्होंने पहले कभी प्रयोग नहीं किया। इन शस्त्रों द्वारा प्रतियोगी केवल घायल हो सकता है मृत्यु को प्राप्त नहीं हो सकता। डोगा पौराणिक हथियारों और योद्धा आधुनिक हथियारों से एक दूसरे पर वार करना शुरू कर देते हैं। काफी समय तक ये सिलसिला यूँ ही चलता रहता है बगैर किसी निष्कर्ष के। अंत में दोनों द्वारा किए गए वार एक दूसरे को निशाना बना लेते हैं और दोनों ही बेहोश हो जाते हैं। साथ ही डोगा द्वारा किया गया आखिरी वार योद्धा को निरस्त्र कर डोगा को विजयी बना देता है। युगम दोनों के बेहोश शरीरों को वापस युगमक्षेत्र बुला लेता है। डोगा और योद्धा दोनों ही अब चिर मूर्छावस्था में हैं और उनको इस चिर मूर्छा से जगाने के लिए चाहिए संजीवनी बूटी। पूर्वकाल और पश्चात्यकाल के दल नायकों को अपना एक-एक प्रतिनिधि चुनना है जो हिमालय पर्वत पर जा कर संजीवनी ढूंढ कर लाए। डोगा और योद्धा में से संजीवनी का हकदार केवल वही होगा जिसका दलनायक पहले संजीवनी ढूंढेगा। दोनों दलनायक अपने अपने दलों से भेड़िया और अश्वराज को इस काम के लिए चुनते हैं। ब्रह्माण्ड के दो सर्वश्रेष्ठ पशुमानव निकल चुके हैं हिमालय पर्वत की और संजीवनी की खोज में।


दृश्य 9: परिशिष्ठ अध्याय अंतिम अवसर - आकशगंगाओं के खलीफाओं ने ग्रहणों के साथ साथ गगन और विनाशदूत को भी बंदी बना लिया है और अब वो पृथ्वी को नष्ट करने के लिए निकल चुके है। पृथ्वी जोकि पाप शक्तियों का मुख्य केंद्र बनती जा रही है और आने वाले समय में पाप शक्तियां अन्य ग्रहों और आकाशगंगाओं को भी अपना निशाना बनाएगी। इसी वजह से खलीफा उन पाप शक्तियों को पृथ्वी से बहार निकलने से पहले ही पृथ्वी समेत नष्ट करना चाहते हैं। ग्रहणों इस अंतिम अवसर पर गगन और विनाशदूत को उनकी स्वेच्छा से ग्रहण लगवाने को कहता है। ताकि वो और अधिक शक्ति प्राप्त कर खलीफाओं को पृथ्वी नष्ट करने से रोक सकें। इसके तुरंत बाद गगन और विनाशदूत आजाद हो कर खलीफाओं पर हमला कर देते हैं। 




समीक्षा सर्वसंधि :

कॉमिक बहुत ही बढ़िया है, सम्पूर्ण मनोरंजन। कहानी या फिर शायद प्रतियोगिता कहना उचित रहेगा रोचक होती जा रही है। मुख्य कहानी के साथ चल रहीं अन्य कहानियों को भी बेहद शानदार तरीके से पेश किया गया है। पाठकों को सर्वसन्धि कॉमिक का बेसब्री से इंतज़ार था और उनका ये इंतज़ार बिलकुल भी ब्यर्थ नहीं गया। पाठकों को बता दूँ के डोगा और योद्धा के बीच चल रही प्रतियोगिता अभी समाप्त नहीं हुई है बल्कि भेड़िया और अश्वराज के भी इसमें शामिल हो जाने से इसका रोमांच अब और भी अधिक बढ़ गया है। 

आर्टवर्क बीच बीच में थोड़ा सा गड़बड़ है लेकिन कुल मिलकर शानदार है। काफी सारे अलग अलग किरदारों और दृश्यों की वजह से कलाकार का काम काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसे में इस तरह का शानदार आर्टवर्क सराहनीय है। देव, असुर, परग्रही इत्यादि इन सब के कॉमिक्स में होने से भाषा और शब्दों पर काम बढ़ गया है। लेकिन राज कॉमिक्स टीम ने कॉमिक के हर छोटे बड़े पहलु पर खास ध्यान दिया है। संजीदा चल रही कहानी में जो छुटपुट हास्य और चटपटे संवाद डाले गए हैं वो लाजवाब हैं। पूरी राज कॉमिक्स टीम प्रशंसा की हकदार है ख़ास कर नितिन मिश्रा, शुशांत पांडा, हेमंत कुमार, नीरू और मंदार गंगेले जी।  

कॉमिक के कमजोर पक्ष:-

  • इस एक कहानी में ढेर सारी कहानियां समान्तर चल रही है। कई के बारे में तो पाठक भूल भी चुके होंगे। जब किसी नए भाग में किसी फिछली अधूरी कहनी को आगे बढ़ाया जाता है तो यक़ीनन कई पाठकों को याद आता होगा, "ओह्ह्ह.... इसे तो में भूल ही गया था"। सीधे शब्दों में कहूँ तो अगले भाग के आने तक पिछली पूरी कहानी को याद रखना बीते समेस्टर के लेक्चर याद रखने से कम नहीं।
  • पहली स्पर्धा में डोगा और योद्धा को एक-दूसरे के शरीरों का इस्तेमाल कर पठार तोड़ने होते हैं और वो भी हीरे के पठार। मुझे हैरानी इस बात से है की वो हीरे के पठारों को मल्ल युद्ध करते हुए तोड़ भी देते हैं। मुझे लगता है की या तो मैंने स्कूल में केमिस्ट्री गलत पड़ी है या फिर शायद गुरुत्वभूमि के हीरे किसी  दूसरी किस्म के हैं। अब ये या तो अवधि या फिर युगम ही बेहतर बता सकता है।
  • पहली स्पर्धा में जब डोगा मल्ल युद्ध के लिए गया तो वो निरस्त्र था। लेकिन मल्ल युद्ध के दौरान 2-3  दृश्यों में डोगा को "बुलेट बेल्ट" पहने दिखाया गया है और बाकि के दृश्यों में निरस्त्र। यहाँ पर चित्रकारी में थोड़ी सी चूक हुई है।
  • पृष्ठ संख्या 56 और 64, * जानने के लिए पढ़ें भोकाल की ......'लघुघाती' एवम * जानने के लिए पढ़ें .......'ड्रैकुला का अंत'। क्या जानने के लिए? ये नहीं बताया गया। मतलब पृष्ठ 56 में भोकाल और पृष्ठ 64 में एंथोनी के संवाद के साथ सितारे का चिन्ह लगाना भूल गए। 
  • पृष्ठ संख्या 84, फ्रेम संख्या 3, युगम की संवाद संख्या 3: "जिस प्रकार रावण के अमोघास्त्र ने लक्ष्मण को चिर मूर्छावस्था में पहुंचा दिया था"। मैं प्रकाश डालना चाहूंगा की अमोघास्त्र का वार रावण ने नहीं मेघनाद ने किया था। यहाँ पर यह एक बड़ी चुक हुई है। समय के प्रतिपालक द्वारा एक ऐतिहासिक और सर्वविख्यात घटना में ऐसी गलती, अविश्वसनीय। युगम भूलत्रि अस्याः।       

 

कॉमिक के मजबुत पक्ष:-

  • कॉमिक्स में रोमांच, सस्पेंस, एक्शन, कॉमेडी, ट्विस्ट, इमोशन सब कुछ सही मात्रा में मौजूद है। अगर कुछ कमी रह गयी तो केवल रोमांस की।
  • कहानी, चित्रांकन, इंकिंग, कलरिंग, आर्टवर्क, संवाद हर कुछ बढ़िया है। कमी की कहीं कोई गुंजाइश नहीं छोड़ी गयी।
  • डोगा जो की राज कॉमिक्स की शान भी है और जान भी मतलब एक मुख्य किरदार है। साथ ही डोगा के जयादा प्रशंसक होने की वजह से मुझे लगा था की डोगा को ही जितवाया जाएगा। लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. बेशक इस वक़्त योद्धा 1 और डोगा 2 अंक के साथ आगे चल रहा है। लेकिन इन तीनो स्पर्धाओं में न ही कहीं डोगा कम दिखा न ही योद्धा। दोनों की जीत -हार बिलकुल तर्कसंगत रही।  इस सब से न डोगा के प्रशंसकों को कोई शिकायत होगी और न ही योद्धा के।

कुल मिलाकर यह एक पढ़ने लायक कॉमिक है। 2015 की सबसे बेहतरीन कॉमिक्स में से एक। यह कॉमिक ज़रूर पढ़ें, अगर आपने इसे नहीं पढ़ा तो मैं कहूँगा की आप एक बेहतरीन कॉमिक्स का आनंद उठाने से चूक गए। 



Review Sarvsandhi Pic 3Your Ratings:           


My Ratings: 4.5/5

RC Official Rating: N/A


 
Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

0 comments:

Post a Comment