Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Vishputron Ka Aagman

 Review -Vishputron Ka Aagman 


Review Vishputron Ka Aagman - Pic 1Your Ratings:    
             



My Ratings: 4/5
RC Official Rating: N/A


Format: Printed
Issue No: SPHB-2597-H
Language: Hindi
Author: Anurag Kumar Singh, Nitin Mishra
Penciler: Hemant
Inker: Vinod Kumar, Ishwar Art
Colorist: Mohan Prabhu, Sunil
Pages: 64
Price: Rs 60.00


Moat Ka Marathan is ended with the Arrival of the Venom Powers. But Ashwaraj is still far from the destination and now Gojo has also joined the quest with him. Along with all this, "Nagniranjani" had been discovered by the enemies of humanity and Venom powers the guardians of humanity had moved to protect Nagniranjani. 


Story Vishputron Ka Aagman:

Scene 1: Tilism Dimension Present Time - Professor Nagmani who has now become venomous and Nagdant both were trapped in Tilism dimension. Professor Nagmani injects Nagdant with its own Venom and Nagdant becomes more poisonous and powerful than before. Nagmani tells that this Tilism is not have made for us. If we do some wrong with it, it will try to destroy us or will be throw us out of here. Nagdant starts attacking on the Tilism and Tilism begins counterattack.

Scene 2: Trinaag Pathaar, Past Time - Ashwaraj and Barbaraak attacks on Trinaag plateau with their armies in search of Kudumchumbi. But the sin clouds spread over Trinaag plateau turn their armies against them. Now Ashwaraj and Barbraak have to face of their own armies. Then Trinaag Sandhi appears there and attacks on Barbaraak by some magical power. Barbaraak also goes against Ashwaraj from the impact of this magical attack. Because of the long ongoing battle Ashwaraj get tired and having difficulty to face Barbaraak. Meanwhile, Gojo arrived there and joined the battle along with Ashwaraj. Gojo and Ashwaraj together won the fight. On being asking by Ashwaraj, Gojo tells that he is not suddenly reached here. His ally Bijlika was suddenly disappeared and he has reached here in her quest. Gojo and Ashwaraj both are together now because they both have the same enemy. And whoever he is, they will get him here on the Trinaag plateau.


Scene 3: Trinaag Pathaar, Present Time - On the Trinaag plateau Nagraj's old enemy Karanvashi is recalling his past and searching the death stuff of all the venom powers. And that death stuff is “Nagniranjani” the source of all the venom powers. And at last Karanvashi succeeds to getting the Nagniranjani.


Scene 4: Mahanagar Same Time - Psyche forms (Manas Roop) of Vish-Amrit warns Nagraj about the growing danger on the venom powers and the entire humanity. They tell that, if someone acquires the Nagnirnjani he will control all the beings whose power source is venom.


Scene 5: Robo's Secret Hideout Rajnagar, Present Time - Madam X succeed to reach at Robo's secret hideout. She clashed with Natasha after handling Robo army. Robo come in between their battle and stops them both. Revealing the real identity of Madam X by Robo, refreshes the past memories of Madam X. In reply to Robo Madam X shows the container brought along with her and tells her reason to come here. Robo and Natasha got surprised after seeing injured and unconscious Dhruv inside the container. Dhruv was handover to Robo in ten thousand million by Madam X. But after a while Natasha goes to view captive Dhruv then she gets nothing there but the clothes. Madam X was gone from Robo's secret hideout with the duplicate Dhruv i.e. the Invisible Man. 

Meanwhile, Lomadi and Kirtimaan also get succeeded in bringing the handle of Hammer's hammer.

Scene 6: Queen Corps Biotech Lab, Parallel Dimension Mahanagar -
Visyanka i.e. Nagrani is negotiating with her employees. Nagrani and Nagraj's son Nagesh has become a boon for Mahanagar. Visfunkar of Nagesh has balanced the amount of decreased Alkeloid in the atmosphere. Suddenly Nagdant and Nagmani appeared there. The Tilism send both of them to Mahanagar but to another dimension's Mahanagar. Professor Nagmani identified all the shape-shifters (Ichcadharis) present there and instructs Nagdant to attack them. Then Vishyanka came to her real form as Nagrani and collided with both of them. During the fight Professor Nagamani gives anti-venom injection to Nagrani. Nagrani becomes weaker due to the reduced venom. Nagrani give instructions to all the Ichhadharies present there to come inside her. And give her son Nagesh into the hands of an employee and sent away from there. Nagrani becomes weaker in front of Nagdant. Then she invokes the Nagdand and asks the power to defeat Nagdant. Nagdand opened the dimension door and sends Nagrani beyond it. Nagdant also tries to cross the dimension door but it gets closed before.


Scene 7: Raj Nagar, Earth at the Same Time - Kali Vidhwa and Sheena are finding way to reach Chumba and Commando Force is monitoring them. In search of Chumba Sheena reaches Rajnagar Mines area and after checking for a while she also call Kali Vidhwa there. Both start searching Chumba and reaches to the Chumba's gang. Chamba's gang attacked them and fight started between them. Meanwhile, Chumba arrives there. Sheena with the help of his mental blasts stops Chumba. Then they both complete their job and come out from there by pretending business with Chumba. After their departure Law and Order reached there and then Chumba knows the truth.


Scene 8: Temporary WAR Headquarters Rajnagar, Present Time - After completing the tasks perfectly all team members are now the Official WAR members. Inspector Steel tells them that the work given them was not meaningless. The Megnosolar gun which Chumba was to create was just a part of the major war inventory. Ten thousand million was needed to complete the inventory and that amount was stolen from the Reserve Bank Treasury by Robo. Inventory master plan Blueprints were in two parts, first in the Bona Vamana's yo-yo and the second in the handle of Hammer's hammer. The entire inventory was designed by Supernova who was in Narka jail that's why Bona vamana went there. They also informed about the reality of Law and Order, which are actually Dhruv and Nakshatra. On asking cheetah Dhruv tells why we had to do all this drama. Because a few days ago Nastredamus had told him that in the future the universe defenders (Brahmaand Rakshak) are going to disappear from the earth and the law system of the entire world will collapse. The prediction of Nastredamus could not be ignored because in the past he had predicted and it came true. Therefore all this got started and Anis Raja had been made the WAR inventory Designer. The meeting of universe defenders was called and they suggested the names of the deserving candidates. The counselor was elected unanimously. But no one knew the whereabouts of several candidates therefore CNN was called. He tracked down all of them and Steel sent the invitation to everyone.
Meanwhile, Natasha, Robo Army, Chumba, Hammer and Bona Vaman arrived there by chasing the signals of the transmitter which were planted in the truck of Madam X by Natasha. All villains start the battle with WAR members. Dhruv, Steel and Nakshatra do not take part in this battle, they just see them fighting. WAR members fight together in their first open battle and won.


Scene 9: Snake Eye Security Headquarters Mahanagar, Present Time - Nagraj calls all his Ichcadhari friends and tells about the warning given by Vish-Amrit. Nagaraj says that we have to get to that place immediately where Nagniranjani is present and must secure it. Then a dimension door opens up there and Nagrani comes out in injured condition from it. The power of the Nagdand brought Nagrani here in front of Nagraj. Because Nagdant has now become more powerful and dangerous than before and Nagraj is the only who could stop him. Nagrani tells the whole incident which happened on her dimension and asks Nagraj to come with her for help. Nagraj gets confused, now who should he protect? Nagrani’s world or his own world? Then Saudangi assured Nagraj that she and other Ichhadharis will secure Nagniranjani. You can go with Nagrani to save her world. Nagraj goes across the dimension door with Nagrani.


The story will continue in the upcoming comic, "Vishkshetra Snrakshnam".



Review Vishputron Ka Aagman:

Vishputron Ka Aagman this comic did not drop as much impact as I was expecting from it. But overall it is a good comic. If the word like "Venom" is in the title of a comic, the readers would expect action from Nagraj in such a comic. While in this comic Nagraj was not even warm up. Yeah Nagrani, Nagdant and Nagmani have powerful role and their scenes have been presented very well. 

About the story, nor do I would say it worthless neither very impressive. An average class story and is good to entertain. Along with the strong aspects of the story are also drawbacks, which need to be improved. The story is moving rapidly, which is a good thing for this series. The purpose of Sarvnayak Vistaar beginning is to linking the untold sequences of Sarvnayak Series. So the unanswered questions related to Sarvnayak Series can get in Sarvnayak Vistaar. Therefore, the story of Sarvnayak Vistaar should be neat and clean and should be taken forward according to the series demand. This series should not be long and complicated like the Sarvnayak Series. Attention must be paid on this. 


The artwork is better, especially in the anterior segment. But on Nagraj and party means Saudangi and his allies artwork is a little bad. Those faces are not identifiable. Very much improvement needed over here because all these characters will be in crucial roles in the next part. 


Excellent dialogues, especially Nagmani's dialogues are emphatic which correspond to his personality. And the dialogues of Lomadi are full of light fun and satire.


 Weak Sides of the comic:

  • Gojo secures Ashwaraj and itself in some kind of shield to avoid lightning shock. What kind of shield and how? It was not been mentioned anywhere, While it should have told.
  • Along with being aging, Robo is also shown too stupid, who could not identify its usual and sworn enemy.
  • The mission of Kirtimaan and Lomadi was completed in just 12 frames of 3.5 pages. Lomadi had nothing to do in this comic. She was just for formality.
  • Hammer gets faint by a smoke bomb, while that smoke bomb does not affect Lomadi and Kirtimaan.
  • Vishyanka's legs color has been shown like the normal human legs. If she is Nagrani then the color of her legs had to be green or otherwise should be shown covered.
  • Sheena's mental blasts could not break Chumba's magnetic field. But that magnetic field is broken by a cracked roof. It is a little odd.
  • Robo Army used infra-red glasses to see invisible Professor Shrikant and Professor Shrikant makes Robo Army blind for a while by flashing a torch. Professor Shrikant was invisible, means he was without clothes at the time. No clothes means, no pockets, no place to keep anything with him. Then suddenly from where the torch comes to him?
  • Black Widow, before going on mission was with the mask and in her costume. But on the entire mission she has been shown exposed, without mask. She exposed her true identity in front of Sheena, Commando Force and many more. Black Widow's identity is her mask and she also includes into the category of criminals. So, why she removed the mask?
    I did not understand.



Strong Side of The Comic:

  • The missions of the WAR members were shown quite in detail and in good way, just except the mission of Kirtimaan and Lomdi.
  • The plan of Dhruva and Nakshatra was good. Dhruva, steel and Nakshatra were not joined the battle of the WAR members vs. villains was good to see. 
  • The role of Kirtimaan is very less but his dialogues are solid like his personality. Was full of enjoy.
  • The story, artwork and dialogues of the anterior are quite impressive. Ashwaraj looks weak against Barbaraak that has been given appropriate reason by the author. Gojo is also brought into the story and it is not meaningless and unnecessary. Overall the whole anterior segment is fantastic.
  • The causes and the sequences which gave rise to the Sarvnayak series has mentioned very beautifully.

Overall, a good to read comic. Hope, the next parts of this series will be more impressive and entertaining.


You might also like:  

Review - Moat Ka Marathan


 हिंदी के लिए नीचे देखें
 Scroll Down to Read in Hindi

Review Vishputron Ka Aagman - Pic 2

विषपुत्रों के आगमन के साथ ही मौत के मैराथन की समाप्ति हुई। लेकिन अश्वराज मंज़िल से अभी दूर है और इस तलाश में उसके साथ अब गोजो भी शामिल हो गया है। इस सब के साथ ही मानवता के दुश्मनों ने खोज ली है "नागनिरंजनी" और मानवता की रक्षक विषशक्तियां निकल चुकी हैं उसे सुरक्षित करने।

कहानी विषपुत्रों का आगमन:


दृश्य 1: तिलिस्म आयाम वर्तमान काल - नागदंत और प्रोफेसर नागमणि जोकि अब एक विषपुरुष बन चुका है दोनों ही तिलिसम आयाम में कैद हैं। विषहीन हो चुके नागदंत को प्रोफेसर नागमणि अपने विष का इंजेक्शन लगाता है और नागदंत पहले से अधिक ज़हरीला विषपुरुष बन जाता है। नागमणि नागदंत से कहता है की ये तिलिस्म हमारे लिए नहीं बना है। यदि हम इसमें कोई गड़बड़ करते हैं तो ये हमे नष्ट करने की कोशिश करेगा या फिर यहाँ से बहार निकल देगा। नागदंत तिलिस्म पर हमला शुरू कर देता है और तिलिस्म उस हमले का पलटवार।

दृश्य 2: त्रिनाग पठार, पूर्वकाल - अश्वराज कुदुमछुम्बी को ढूंढते हुए बर्बराक और अपनी सेना के साथ त्रिनाग पठार पर आक्रमण कर देता है। लेकिन त्रिनाग पठार पर छाए हुए पाप के बादल अश्वराज और बर्बराक की सेना को उन्ही के खिलाफ कर देते हैं। अश्वराज और बर्बराक को अपनी ही सेना का सामना करना पड़ता है। तभी त्रिनाग सन्धि वहां प्रकट होती हैं और बर्बराक पर जादुई वार करती हैं। जिससे बर्बराक भी अश्वराज के खिलाफ हो जाता है। काफी देर से चल रही लड़ाई के कारण अश्वराज थक जाता है और इस वजह से बर्बराक का सामना करने में उसे मुश्किल आने लगती है। इसी बीच गोजो वहां आ पहुंचता है और लड़ाई में अश्वराज का साथ देता है। गोजो और अश्वराज दोनों मिलकर लड़ाई जीत लेते हैं। अश्वराज के पूछने पर गोजो बताता है की वह यहाँ अचानक नहीं पहुंचा। उसकी सहयोगिनी बिजलीका एकदम से कहीं गायब हो गयी है और वो उसकी तलाश में यह तक पहुंचा है। अब गोजो और अश्वराज दोनो साथ हैं क्यूंकि उन दोनों का दुश्मन एक ही है। और वो जो भी है वो उन्हें यहीं यानि त्रिनाग पठार पर ही मिलेगा।

दृश्य 3: त्रिनाग पठार, पाश्चात्काल - नागराज का पुराना दुश्मन करणवशी अपने अतीत को याद करते हुए और नागराज को कोसते हुए त्रिनाग पठार पर नागराज और तमाम विषपुत्रों की मौत का सामान ढूंढ रहा है। और वो मौत का है "नागनिरंजनी" जोकि सभी विषपुरुषों की शक्तियों की कुंजी है। करणवशी नागनिरंजनी को ढूढ़ने में सफल होता है।

दृश्य 4: महानगर उसी समय - ध्यानमग्न नागराज को विष-अमृत के मानस रूप विषपुत्रों पर मंडराते हुए खतरे और नागनिरंजनी के बारे में सावधान करते हैं। वह बताते हैं की यदि किसी ने नागनिरंजनी को प्राप्त कर लिया तो वह उन सब प्राणियों पर काबू कर लेगा जिनकी शक्ति का स्त्रोत विष है।

दृश्य 5: रोबो का गुप्त मुख्यालय राजनगर, प्रेजेंट टाइम - मैडम-X  रोबो के ठिकाने तक पहुँच जाती है जहाँ रोबो आर्मी से निपटने के बाद नताशा से उसका सामना हो जाता है। रोबो बीच में आ कर दोनों की लड़ाई रोकता है। रोबो द्वारा मैडम-X की असली पहचान बताने पर मैडम-X के अतीत की यादें ताज़ा हो जाती हैं। मैडम-X अपने साथ लाये कंटेनर की तरफ इशारा करते हुए अपने आने की वजह बताती है। रोबो और नताशा उस कंटेनर के भीतर देखकर हैरान रह जाते हैं। उस कंटेनर में है घायल और बेहोश हालत में ध्रुव। मैडम-X दस हजार करोड़ में ध्रुव को रोबो के हवाले कर देती है। लेकिन थोड़ी देर बाद जब नताशा कैद में रखे गए ध्रुव को देखने जाती है तो उसे वहां कपड़ों के सिवा कुछ नहीं मिलता। मैडम-X नकली ध्रुव यानि प्रोफेसर श्रीकांत उर्फ़ अदृश्य मानव को साथ लेकर वहां से निकल चुकी है।
इसी बीच लोमड़ी और कीर्तिमान भी हैमर के हथोड़े का हैंडल लाने में सफल हो जाते हैं।

दृश्य 6: क्वीन कॉर्प्स बायोटेक लैब, पैरलल डायमेंशन महानगर - विषयांका उर्फ़ नागरानी अपनी कंपनी के कर्मचारिओं से बातचीत कर रही है। नागरानी और नागराज का पुत्र नागेश महानगर के लिए वरदान बन कर आया है। नागेश की विषफुंकार से हवा में घटी हुई अल्केलॉइड की मात्रा संतुलित हो गयी है। तभी अचानक नागमणि और नागदंत वहां प्रकट हो जाते हैं। तिलिसम ने उन्हें महानगर तो पहुंचा दिया है लेकिन दूसरे आयाम के महानगर। नागमणि की तेज आँखें वहां मौजूद इच्छाधारियों को पहचान लेती हैं और वह नागदंत को उनपर हमला करने का निर्देश देता है। तब नागरानी अपने असली रूप में आकर उनसे टकरा जाती है। नागदंत और नागरानी की लड़ाई के दौरान नागमणि नागरानी को विषनाशक इंजेक्शन लगा देता है। विष कम हो जाने की वजह से नागरानी कमजोर पड़ने लगती है। नागरानी वहां मौजूद सभी इच्छाधारियों को अपने भीतर समाहित होने का निर्देश देती है और अपने बेटे नागेश को एक कर्मचारी के हवाले कर उसे वहां से भगा देती है। नागदंत के आगे कमजोर पड़ रही नागरानी नागदंड का आह्वान कर नागदंत को परास्त करने की शक्ति मांगती है। नागदंड आयमद्वार खोलकर नागरानी को उसके पार भेज देता है। नागदंत भी अयमद्वार के पार जाने की कोशिश करता है लेकिन इससे पूर्व ही अयमद्वार बंद हो जाता है।

दृश्य 7: राजनगर, पृथ्वी आयाम उसी समय - काली विधवा और शीना चुम्बा तक पहुँचने का रास्ता खोज रही है और कमांडो फ़ोर्स उन पर नजर रखे हुए है। कुछ देर बाद शीना राजनगर माइंस एरिया पहुंचती है और थोड़ी देर जांचने के बाद काली विधवा को भी वहां बुला लेती है। दोनों मिलकर चुम्बा को तलाशना शुरू कर देती है और चुम्बा के आदमियों तक पहुँच जाती हैं। चुम्बा के आदमी उनपर हमला कर देते है और उनमे लड़ाई छिड़ जाती है। इसी बीच चुम्बा भी वहां आ पहुँचता है। शीना अपने मानसिक धमाकों की मदद से चुम्बा को रोकती है। फिर वह दोनों चुम्बा से बिजनेस का बहाना बनाकर अपना काम पूरा करती हैं और वहां से निकल जाती हैं। उनके जाने के बाद लॉ और आर्डर वहां आ पहुँचते हैं और तब चुम्बा को सचाई पता चलती है।

दृश्य 8: अस्थायी वॉर हेडक्वार्टर्स राजनगर, प्रेजेंट टाइम - दिए गए कामों को बखूबी पूरा करने के बाद चारों टीम्स के सदस्यों को ऑफिसियल वॉर (WAR) मेंबर्स बना दिया जाता हैं। इंस्पेक्टर स्टील उन्हें बताता है की जो काम उनको दिए गए थे वो बेमक़सद नहीं थे। चुम्बा जो मेग्नोसोलर गन बना रहा था वह एक बड़ी वार इन्वेंट्री का एक हिस्सा मात्र थी। पूरी इन्वेंट्री बनाने के लिए दस हजार करोड़ की ज़रूरत थी जो रोबो ने रिसर्व बैंक ट्रेजरी से चुराए थे। इन्वेंट्री मास्टरप्लान के ब्लूएप्रिंट्स दो हिस्सों में थे, एक बोना वामन के यो-यो में और दूसरा हैमर के हथोड़े के हैंडल में। इस पूरी इन्वेंट्री की डिजाइनिंग सुपर नोवा ने की थी जोकि नारका जेल में बंद था इसीलिए बोना वामन वहां गया था। साथ ही उन्हें बताया जाता है की लॉ और आर्डर असल में ध्रुव और नक्षत्र हैं। चीता के पूछने पर ध्रुव बताता है की इस सब की नौबत इसलिए आन पड़ी क्यूंकि कुछ दिन पहले नास्त्रेदमस ने उसे बताया था की आने वाले समय में धरती पर से ब्रह्माण्ड रक्षकों का अस्तित्व मिटने वाला है और पूरी दुनिया की कानून व्यवस्था  चरमरा जाएगी। नास्त्रेदमस की भविष्यबाणी को अनदेखा नहीं किया जा सकता था क्यूंकि उसने पहले भी कई भविष्यबाणियां की थी जो सच साबित हुई। इसलिए ये सब शुरू किया गया, अनीस राजा को वॉर का इन्वेंट्री डिज़ाइनर बना दिया गया और ब्रह्माण्ड रक्षकों की बैठक बुलकर उनसे योग्य उम्मीदवारों के नाम लिए गए। सर्वसम्मति से कॉउंसलर चुना गया। कई उम्मीदवारों का अता-पता कोई नहीं जानता था इसलिए CNN को बुलाया गया और उसने सभी को ढूढ़ निकला और स्टील ने सबको इनविटेशन भेजा।
इसी बीच नताशा द्वारा मैडम-X के ट्रक में लगाये गए ट्रांसमीटर के सिग्नल का पीछा करते हुए रोबो आर्मी, चुम्बा, हैमर और बोना वामन वहां आ पहुँचते हैं और वॉर सदस्यों के साथ जंग शुरू कर देते हैं।  ध्रुव, स्टील और नक्षत्र इस जंग का हिस्सा नहीं बनते, वह वॉर सदस्यों को आजमाते हैं। वॉर सदस्य अपनी इस पहली खुली जंग में एकजुट हो कर लड़ते हैं और जीत प्राप्त करते हैं।

दृश्य 9: स्नेक आई सिक्योरिटी हेडक्वार्टर्स महानगर, प्रेजेंट टाइम - नागराज सभी इच्छाधारिओं को बुलाता है और उन्हें विष-अमृत द्वारा दी गयी चेताबनी के बारे में बताता है। नागराज कहता है की हमें फ़ौरन उस जगह के लिए निकलना होगा जहाँ नागनिरंजनी मौजूद है और उसे सुरक्षित करना होगा। तभी वहां एक आयमद्वार खुलता है और उसमें से नागरानी निकलती बहार आती है जोकि घायल अवस्था में है। नागदंड की शक्ति ने नागरानी को यहाँ नागराज के पास पहुंचा दिया क्यूंकि एक नागराज ही है जो और पहले से अधिक खतनाक हो चुके नागदंत को रोक सकता है। नागरानी अपने आयाम पर घटी सारी घटना नागराज को बताती है और साथ चलने को कहती है। नागराज दुविदा में पड़ जाता है की अपनी दुनिया बचाए या नागरानी की। तब सौडांगी नागराज को आश्वस्त करती है की वह और अन्य इच्छाधारी नागनिरंजनी को सुरक्षित कर लेंगे तुम अपना पुत्र धर्म निभाओ। नागराज नागरानी के साथ आयामद्वार के पार चला जाता है।

आगे की कहानी जारी रहेगी आगामी कॉमिक में, जिसका नाम है "विषक्षेत्र संरक्षणम्"



समीक्षा विषपुत्रों का आगमन:


विषपुत्रों का आगमन, ये कॉमिक उतना जयादा प्रभाव नहीं छोड़ पायी जितनी मुझे इससे उम्मीद थी। फिर भी कुलमिलाकर यह एक अच्छी कॉमिक है। विषपुत्र ये नाम जिस कॉमिक में हो पाठक उसमे नागराज के एक्शन की उम्मीद रखते हैं। जबकि इस कॉमिक में नागराज का तो वार्म उप भी नहीं हुआ।  हाँ नागरानी, नागदंत और नागमणि की भूमिका काफी दमदार है। इनके दृश्यों को काफी अच्छे से पेश किया गया है।

बात करें कहानी की तो न मैं इसे बेकार कहूँगा न ही प्रभावशाली, ओसत दर्जे की है और अच्छी है। कहानी में सशक्त पहलुओं के साथ साथ कमियां भी काफी हैं, जिन पर सुधार की आवश्यकता है। कहानी की गति तेज है जोकि इस श्रंखला के लिए एक अच्छी बात है। सर्वनायक विस्तार श्रंखला की शुरुआत हुई है सर्वनायक श्रृंखला की अनकही कड़ियों को दिखाने और उन्हें जोड़ने के लिए। ताकि सर्वनायक श्रृंखला के अनुत्तरित सवालों के जवाब सर्वनायक विस्तार में मिल सकें। इसलिए सर्वनायक विस्तार की कहानी को साफ़-सुथरा और श्रृंखला की मांग के हिसाब से ही आगे बढ़ाया जाना चाहिए। ऐसा ना हो की यह श्रृंखला भी सर्वनायक श्रृंखला की तरह लम्बी खिंच जाए और पेचीदा बन जाए। इस पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है।

आर्टवर्क बेहतर है, खासकर पूर्वकाल वाले हिस्से में। लेकिन नागराज एंड पार्टी यानी सौडांगी और उसके सहयोगिओं पर आर्टवर्क थोड़ा खराब है। वह सब पहचान में ही नहीं आ रहे। यहाँ पर सुधार की बहुत जयादा ज़रूरत है, क्यूंकि अगले भाग में इन सब की एहम भूमिका होगी।

सवांद बढ़िया हैं खासकर नागमणि के संवाद ज़ोरदार और चुटीले हैं जो की उसकी शख्सियत पर जचते हैं। वहीँ लोमड़ी के संवाद हलकी-फुलकी मस्ती और व्यंग्य से भरपूर हैं। जो की मनोरंजन के लिहाज से अतिआवशयक हैं।

 कमजोर पक्ष:

  • गोजो विधुत से बचने के लिए अश्वराज और खुद को रक्षा कवच में सुरक्षित करता है। किस तरह के कवच में और कैसे? इसके बारे में बिलकुल भी नहीं बताया गया, जबकि ये बताना चाहिए था।
  • रोबो को बूढ़ा होने के साथ साथ बेवकूफ भी बना दिया गया है, जोकि अपने चिर-परिचित और कट्टर दुश्मन को ही पहचान नहीं सका।
  • कीर्तिमान और लोमड़ी के मिशन को चलते-फिरते ही निपटा दिया गया, यह केवल 3.5 पृष्ठों की 12 फ्रेम्स में ही पूरा हो गया।। लोमड़ी को तो कुछ करने के लिए था ही नहीं। वो बस खानापूर्ति के लिए थी।
  • हैमर एक स्मोक बम से बेहोश हो जाता है, जबकि लोमड़ी और कीर्तिमान पर उस स्मोक बम का कोई असर नहीं पढता।
  • विषयंका के पैरों का रंग इंसानी पैरों की तरह दिखाए गया है। जबकि वह ही नागरानी है तो उसके पैरों का रंग हरा होना चाहिए था या फिर उन्हें ढका हुआ दिखाना चाहिए था।
  • शीना के मानसिक वार चुम्बा की मैग्नेटिक फील्ड को भेद नहीं पाते। लेकिन एक टूटी हुई छत चुम्बा की मैग्नेटिक फील्ड को भेद देती है। ये थोड़ा सा अजीव लगा।
  • रोबो आर्मी अदृश्य प्रोफेसर श्रीकांत को देखने के लिए इंफ्रा-रेड चश्मों का इस्तेमाल करती है और प्रोफेसर श्रीकांत फ़्लैश टोर्च जला कर कुछ देर के लिए उनको अँधा कर देता है। प्रोफेसर श्रीकांत अदृध्या था, मतलब उसने उस वक़्त कपडे नहीं पहने होंगे। कपडे नहीं मतलब कोई जेब नहीं, कोई भी चीज़ रखने की कोई जगह नहीं। तो अचानक उसके पास फ़्लैश टोर्च कहाँ से आ गयी? क्या वो अदृश्य अवस्था में काम की चीज़ें शरीर पर बाँध कर रखता है?
  • काली विधवा मिशन पर जाने से पहले तक नकाब में थी। लेकिन पूरे मिशन में वो बेनकाब दिखाई गयी है। उसने शीना, कमांडो फ़ोर्स और कईओं के सामने अपनी असली पहचान जाहिर कर दी है। काली विधवा की पहचान उसका नकाब ही है और वो एक तरह से कानून की अपराधी भी है। तो उसका नकाब उतारना समझ में नहीं आया, ये बात कुछ हजम नहीं हुई।

 सशक्त पक्ष:

  • वॉर मेंबर्स के मिशन काफी विस्तारपूर्वक और बढ़िया तरीके से दिखाए गए हैं, बस एक कीर्तिमान और लोमड़ी के मिशन को छोड़ कर।
  • ध्रुव और नक्षत्र की प्लानिंग अच्छी लगी। और साथ ही वॉर मेंबर्स बनाम विलेन्स की लड़ाई में ध्रुव, स्टील और नक्षत्र का शामिल न होना भी बढ़िया था।
  • कीर्तिमान की भूमिका बहुत कम है, लेकिन उसकी संवाद उसके व्यक्तित्व की तरह जानदार हैं। जिनको पढ़कर मजा आया गया।
  • पूर्वकाल की कहानी, आर्टवर्क और संवादों में जान है। बर्बराक के सामने अश्वराज के कमजोर पड़ने की उचित वजह दी गयी है। गोजो भी कहानी में बेमक़सद और बेवजह नहीं लाया गया। कुल मिलाकर संपूर्ण पूर्वकाल खंड शानदार है।
  • बेहद बढ़िया तरीके से उन कारणों और कड़ियों का उलेख किया गया है, जिन्होंने सर्वनायक श्रृंखला को जन्म दिया।

 कुल मिलाकर, मनोरंजन के लिए एक अच्छी कॉमिक। उम्मीद है कि, इस श्रृंखला के आगामी भाग और अधिक प्रभावशाली और मनोरंजक होंगे।

Review Vishputron Ka Aagman - Pic 3
Your Ratings:  
                 



My Ratings: 4/5
RC Official Rating: N/A





 
Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

0 comments:

Post a Comment