Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Brahmand Yoddha

 Review - Brahmand Yoddha 


Your Ratings:                  



Review Brahmand Yoddha Pic - 1My Ratings: 3/5
RC Official Website Rating: N/A


Issue No: SPCL-2594-H 
Language: Hindi
Author: Nitin Mishra
Penciler: Dheeraj Verma
Colorist: Bhakt Ranjan
Pages: 32 (24 Without ads)
Price: Rs 40.00






"Brahmand Yoddha" the name is quite strong, but there is nothing special in the comic except the abundance of aliens. "Brahmand Yoddha" instead of this name "Brahmand Yuddh" would be better. The characters of the comic have increased in numbers but the story is not growing further.


Story Brahmand Yoddha:

Scene 1: Earth, Present Time - On regaining consciousness, Parmanu thanked Kara to save him and the earth. And asks her that which such power has been uncontrolled by us and how, who has led to such a big problem. Before Kara responds the transfusion starts again.

Scene 2: Planet Mactriam Same Time - Doga gets angry on the peace proposal from the Mactriyms. Doga think that all the other people along with him has been brought hijacked here by these Mactriyms. Inspector steel stops Doga and explains him that their peace proposal should be accepted until the whole situation gets clear. Mactriyms chief Makrobot gives orders to its assistant Bertonik to communicate with those Mactriyms which transfuse on Earth and tell them to kill uttarjeevi (Parmanu).  He seems that only Steel and Doga have the old weapons and ammunition. The rest people do not have armed with these weapons at this time. He says if that happens then both of these can be easily controlled, once we captured their arms. And then we may destroy the only species of this universe, which can harm us.


Scene 3: Cape Town, South Africa - Parmanu, Dhruv and Kara reached to Cape Town South Africa. And they see a large number of beings of the planet iogran are transfused in a mountain village of Cape Town. But these aliens are not dangerous they are civilized and peaceful in nature. Then suddenly Parmanu hurts, he feels a powerful energy within himself on which he does not have any control. Suddenly the sophisticated Mactriyms combatant from Maktraym planet arrived there and begin attacking on all the beings present there. Attacks of Parmanu and Kara did not harm them. Dhruv got a plan for them, he says to both Parmanu and Kara to secure iogran planet's beings into the tunnels present in the mountains. While he takes attention of Mactriyms and brings them in between the mountains. Where he gets enough space to use star rope, while giant and bulky Mactriyms get trapped in the small and narrow mountains. In an attempt to get out of there, Maktryyms inadvertently breaks the mountains and have made their own grave. Parmanu and Kara also complete their task to secure the people of iogran planet. Kara tells that the source of the problem is there, where Parmanu and Dhruv came to his senses, at S.A.T.I Delhi.


Scene 4: Heztro Planet, Same Time - Gagan tries to convince the army chief of Heztro planet. But army chief says that Earthlings are responsible for this trouble and now they must die. Heztro army commander Heztrodoat with his army begins battle against the Earthlings. In response, Tiranga, Gagan and Vinashdoot are confronting them. Meanwhile, the Heztro head sends troops on earth to eliminate Uttarjeevi (Parmanu).


Scene 5: S.A.T.I Delhi - Parmanu, Dhruv and Kara are now arrives Delhi. Parmanu get the same energy signs here, which is present inside him. While chasing those signals they reach to a machine which is full of acute energy. Kara tells that Parmanu will have to enter within the machine. Once again the pain begins to Parmanu. Meanwhile the emergency forces of various planets arrive there to eliminate Parmanu. Dhruv remembered something and after telling his plan to Kara he disappears somewhere. All the emergency alien forces attack on Parmanu. Dhruv is gone somewhere and Parmanu is not in a position to handle itself at the moment. In such situation, the responsibility to protect Parmanu has now come upon Kara. Kara builds a protective shield around her and Parmanu and defends the first attack of the alien’s emergency troops. But now she has insufficient energy to make the safety shield again. The alien troops attacks again. But before the alien’s attack targets Parmanu and Kara, a snake rope takes them out of there safely.


Review Brahmand Yoddha:


Brought Crackers of 40 rupees, but they did not burst. Friends who have read this comic, they can comfort their hearts by saying this. Aliens and Action in the whole comic, nothing else is special.

When it comes to story, the story is still not moving further and the problem have not even solved a little bit. Protectors of the universe (Brahmand Rakshak) are busy in fighting, while the aliens and the Earthlings are worried from moving on to various planets. Few more new characters have been added to the story. Almost every alien species knows that the problem is due to Parmanu (Uttarjeevi). Only Parmanu and Earthlings do not know, why all this happened and how? Parmanu, Kara and Dhruv are wandering here and there, instead of finding the origin of the problem. The story of Doga and Steel has not exceeded four pages and another story of Tiranga, Gagan and Vinashdoot has also begun.  Bhediya and Shakti were left behind. When the universe is in a serious trouble, then where is Nagraj? In the next part we will definitely get the answer. When all the Protectors of the universe (Brahmand Rakshak) are participating in this warfare, then why should Nagraj stay behind? Very rarely get to see that the entry of Nagraj is to be in the end, in a Maltistar comic. I felt that the idea of bringing Nagraj into the story and forcefully prolong the story has recently arrived to the author. 


Artwork is quite disappointing, it seems the whole series is handed over to a new artist for testing purpose. The face and physical structure of the characters in several scenes are look different. Artwork is even more disappointing in those scenes which have more than 3-4 character. I am feeling very bad for Dhruv, what he was and what have made him now. Take "Brahmand Yoddha" and on the other side pick up any old comic (especially before 2010). Now see the difference in both, the story and the artwork. I do not need to say anything further.  
If the Aakhiri Series would have been introduced properly then it would have been completed nicely in just 2 parts. But then how the number of the comics of a new set will be fulfilled? By the Digests or the Dvinayaks !!!
 

Weak Side of The Comic:

  • This is the third comic of the Aakhiri Series, but still did not get the main scenario because of which 3 comics have been published. I mean, the introduction has not properly given yet.
  • Now the story has been of 73 pages. And what was done by Parmanu and Dhruv? It have not found out so far. Due to which 3 comics were had to print.
  • "Idhar chala main udhar chala, jaane kahan main kidhar chala !!!!" Parmanu is doing something like this along with Dhruv and Kara. Well, that's good not slipped yet.
  • In the previous parts Parmanu was shown using energy shuttle to carry Dhruv. While in this part all these three Parmanu, Dhruv, and Kara reach anywhere during their talk.
  • Maktriyms were died trapped into the mountains, while they can fly. There is no sense of being trapped.
  • Tagline of Brahmand Yoddha: To punish Parmanu for his mistake now universe warriors of different planets are incarnated on earth. Well right, but when they has incarnated, when the comic was about to finish, when only 4 pages of the comics were left. But even that, was not see the beautiful faces of the universe warriors.
  • The reader is fully satisfied just by reading a good comic. But I do not think anyone might have any satisfaction like that, even after reading all the three parts of this series. This comic has lack of satisfaction.

Strong Side of The Comic:

  • Once again after 'Makbara' and 'Takshak' it is good to see Gagan and Vinashdoot in normal comics (Except Sarvnayak). It seems that Raj Comics team now fully made up his mind to bring back the old Super Heroes.
  • Whatever the situation or the comic, the entry and the role of Nagraj is always tremendous. The entry of Naagrasi was at accurate moment and was cool. Now what will Nagraj do? How will he handle all this? It will be interesting to see.


So now the responsibility of the entire universe has come on the shoulders of the World Defender (Vishwa Rakshak). Will be wait for the next part Vishwa Rakshak. The next part will probably fulfill the shortcomings of the previous ones.

 

You might also like: 

Review - Parkalon Ki Dharti

हिंदी के लिए नीचे देखें
 Scroll Down to Read in Hindi

Review Brahmand Yoddha Pic - 2

समीक्षा ब्रह्माण्ड योद्धा

"ब्रह्माण्ड योद्धा" नाम में काफी दम है, लेकिन कॉमिक में एलियंस फौज को छोड़कर बाकि सब कुछ कम है। 'ब्रह्माण्ड योद्धा' की जगह अगर इस कॉमिक का नाम "ब्रह्माण्ड युद्ध" होता तो जयादा अच्छा होता। आखिरी रक्षक एक्सप्रेस में यात्री थोड़े और बढ़ गए हैं, लेकिन गाड़ी अभी तक वहीँ की वहीँ खड़ी है। मेरा मतलब है की, कॉमिक के किरदारों की संख्या में भढ़ोतरी हुई है लेकिन कहानी है की आगे बढ़ने का नाम ही नहीं ले रही।


कहानी ब्रह्माण्ड योद्धा:

दृश्य 1: पृथ्वी, वर्तमान समय - परमाणु होश में आने पर खुद को और पृथ्वी को बचाने के लिए कारा का धन्यबाद करता है। साथ ही उससे पूछता है की उसने और ध्रुव ने ऐसी कौन सी शक्ति को और कैसे अनियंत्रित कर दिया है, जिससे इतनी बड़ी समस्या उत्पन हो गयी है। कारा कोई जवाब देती इससे पहले ट्रांसफ्यूज़न दोबारा शुरू हो जाता है।  

दृश्य 2: प्लेनेट मैकट्रायम्, उसी समय - मैकट्रीयम्स की शांति संधि की बात पर डोगा भड़क उठता है। डोगा को लगता है की उसे और अन्य पृथ्वीवसिओं को मैकट्रीयम्स द्वारा अपहृत कर यहाँ लाया गया है। इंस्पेक्टर स्टील डोगा को रोकता है और समझाता है की जब तक सारी स्थिति साफ़ नहीं हो जाती तब तक इनका शांति प्रस्ताव मान लेना चाहिए। मैकट्रीयम्स का मुखिया मैक्रोबोट अपने सहायक बर्टअॅनिक को पृथ्वी पर ट्रांसफ्यूज़ हुए मैकट्रीयम्स से संपर्क साधने को कहता है और उन्हें उत्तरजीवी यानि परमाणु को देखते ही ख़त्म करने का आदेश देता है। उसको ऐसा प्रतीत होता की पुराने हथियार यानि गोली बारूद सिर्फ स्टील और डोगा के पास ही हैं। बाकी सब पृथ्वीवासिओं के पास इस वक़्त ये हथियार मजूद नहीं। वो कहता है की अगर ऐसा होता है तो इन दोनों को आसानी से काबू किया जा सकता है। और फिर पृथ्वीवसिओं को ख़त्म कर के हम उस एकमात्र प्रजाति को नष्ट कर देंगे जो हमारा विनाश कर सकती है।


दृश्य 3
: केप टाउन दक्षिण अफ्रीका - कारा , ध्रुव और परमाणु केप टाउन साउथ अफ्रीका आ पहुंचते हैं। वहां के एक छोटे से पहाड़ी गाँव में भारी संख्या में इओग्रन ग्रह के प्राणियों का ट्रांसफ्यूज़न होता है। लेकिन इन एलियंस से किसी को खतरा नहीं क्यूंकि ये सभ्य और शांत स्वभाव के एलियंस हैं। तभी अचानक परमाणु तीव्र पीड़ा से तड़प उठता है, उसे अपने भीतर किसी प्रचंड ऊर्जा का संचार महसूस होता है जिसपर उसका कोई वश नहीं। अचानक वहां मैकट्रायम् ग्रह के अत्याधुनिक लड़ाके मैकट्रीयम्स भी आ पहुँचते हैं और वहां मौजूद सभी प्राणियों पर हमला शुरू कर देते हैं। कारा और परमाणु के वारों का उनपर कुछ ख़ास असर नहीं होता। ध्रुव एक योजना बनता है, वह कारा और परमाणु को कहता है के बे दोनों इओग्रन ग्रह के प्राणियों को पहाड़ों में मौजूद सुरंगों में सुरक्षित करें। और खुद मैकट्रीयम्स का ध्यान बँटाकर उन्हें पहाड़ों के बीचों बीच ले आता है। जहाँ उसे स्टार रस्सी का इस्तेमाल करने की काफी जगह मिल जाती है जबकि विशाल और भारी भरकम मैकट्रीयम्स छोटी और संकरी पहाडियों में फंस जाते हैं। खुद को वहां से निकलने की कोशिश में अनजान मैकट्रीयम्स पहाड़ों को तोड़ देते हैं और खुद ही अपनी कब्र बना लेते हैं। कारा और परमाणु भी इओग्रनवासिओं को सुरक्षित कर लेते हैं। कारा बताती है की समस्या की जड़ वहां है जहाँ पर परमाणु और ध्रुव को होश आया था, यानी S.A.T.I  दिल्ली।


दृश्य 4
: हेज़त्रो ग्रह, उसी समय - गगन हेज़त्रो ग्रह के सेना प्रमुख को शांति से समझाने की कोशिश करता है, परन्तु सेना प्रमुख पृथ्वीवसिओं को इस मुसीबत का जिम्मेदार मानकर उन्हें ख़त्म कर देना चाहता है। हेज़त्रो सेना कमांडर हैज़त्रोदोत अपनी सेना के साथ मिलकर पृथ्वीवसिओं के विरुद्ध लड़ाई शुरू कर देता है। जवाब में तिरंगा, गगन और विनाशदूत भी उनसे भिड़ जाते हैं। इसी बीच हेज़त्रो मुखिया उत्तरजीवी यानि परमाणु को ख़त्म करने के लिए एक सैन्य टुकड़ी को पृथ्वी पर भेज देता है।


दृश्य 5: S.A.T.I दिल्ली - कारा, परमाणु और ध्रुव तीनो दिल्ली आ पहुँचते हैं। परमाणु को उसी ऊर्जा के संकेत मिलते हैं जोकि उसके भीतर मौजूद है। उन संकेतों का पीछा करते हुए वह तीनो एक तीव्र ऊर्जा छोड़ती हुई मशीन तक पहुँच जाते हैं। कारा बताती है की परमाणु को इस मशीन के भीतर प्रवेश करना होगा। परमाणु को एक बार फिर से तीव्र पीड़ा शुरू हो जाती है। इसी दौरान कई अलग-अलग ग्रहों की आपात्कालीन सेनाएं उत्तरजीवी यानि परमाणु को ख़त्म करने के लिए वहां आ पहुँचती हैं।  ध्रुव को कुछ याद आता है और वह अपनी योजना कारा को बताकर खुद कहीं गायब हो जाता है। सारी एलियन सेनाएं परमाणु पर हमला कर देती हैं। ध्रुव कहीं चला गया है और परमाणु फिलहाल खुद को सँभालने तक की स्थिति में नहीं है। ऐसे में परमाणु को बचाने का सारा दारोमदार कारा पर आ जाता है। कारा अपने और परमाणु के चारों और सुरक्षा घेरा बनाकर एलियंस के पहले हमले का बचाव करती है। लेकिन अब दोबारा सुरक्षा घेरा बनाने के लिए उसके पास पर्याप्त ऊर्जा नहीं बची है। एलियन सेनाएं दूसरा हमला कर देती हैं। इससे पहले की एलियंस द्वारा किया गया हमला परमाणु और कारा को निशाना बनाता एक नागरसी उन्हें वहां से सुरक्षित निकालकर ले जाती है।

कहानी जारी रहेगी आगामी भाग में, जब आएगा ........."विश्व रक्षक"



समीक्षा:


40 रुपए के पटाखे ख़रीदे पर वो चले नहीं, जिन दोस्तों ने ये कॉमिक पढ़ी है वो अपने मन को ये कहकर दिलासा दे सकते हैं। इस पूरी कॉमिक में एलियंस और लड़ाई, इसके अलावा और कुछ भी ख़ास देखने या पढ़ने को नहीं है।

कहानी की बात करें तो, कहानी वहीँ की वहीँ रुकी हुई है और समस्या ज्यों की त्यों ही है। ब्रह्मांड रक्षक लड़ने में व्यस्त हैं, जबकि एलियंस और पृथ्वीवासी अलग-अलग ग्रहों के चक्कर लगाकर त्रस्त हैं।  कहानी में और भी नए किरदार जोड़ दिए गए हैं। लगभग हर एलियन प्रजाति को यह पता है की इस समस्या की वजह उत्तरजीवी है। बस एक उत्तरजीवी और पृथ्वीवसिओं को ही ये पता ही नहीं के ये सब क्यों और कैसे हुआ। और असल समस्या को ढूंढने की वजाय परमाणु, कारा और ध्रुव इधर से उधर घूम रहे हैं। डोगा और स्टील की कहानी अभी 4 पृष्ठों की हुई नहीं की तिरंगा, गगन और विनाशदूत की कहानी भी शुरू हो गयी। भेड़िया और शक्ति कहीं पीछे छूट गए हैं। जब ब्रह्माण्ड पर इतना गंभीर संकट आन पड़ा है तो नागराज कहाँ है? इसका जवाब हमसब को अगले भाग में मिल जाएगा। अब जबकि सारे ब्रह्माण्ड रक्षक बढ़ चढ़ कर इस ब्रह्माण्ड युद्ध में हिस्सा ले रहे हैं तो भाई नागराज पीछे क्यों रहे। बहुत ही कम देखने को मिलता है की किसी मल्टीस्टार कॉमिक में नागराज की एंट्री सबसे अंत में हो।  मुझे ऐसा लगा की लेखक को ताज़ा ताज़ा ख्याल आया है नागराज को कहानी को में लाने का और ज़बरदस्ती कहानी को और लम्बा खीचने का।

आर्टवर्क काफी निराशाजनक है, ऐसा लगता है किसी नए आर्टिस्ट को एक पूरी श्रृंखला थमा दी गयी हो बस टेस्टिंग के लिए। किरदारों के चेहरे और शारीरिक संरचना कई दृश्यों में बदले-बदले नजर आ रहे हैं। 3-4  से अधिक किरदारों वाले दृश्यों में आर्टवर्क और भी ज्यादा ख़राब हुआ है। मुझे सबसे ज्यादा बुरा ध्रुव के लिए लग रहा है, क्या था और क्या बनाकर रख दिया है। एक तरफ ब्रह्मांड योद्धा के ले लीजये दूसरी तरफ कोई भी पुरानी कॉमिक उठाइये (खासकर 2010 से पहले की) अब दोनों में फर्क देखिये, कहानी भी और आर्टवर्क भी। इससे आगे मुझे कुछ भी कहने की ज़रूरत नहीं है।

अगर "आखिरी श्रृंखला" को ढंग से पेश किया जाता, तो 2 भागों में ये श्रृंखला अच्छे से पूरी हो जाती।  लेकिन भई फिर नए सेट की कॉमिक्स कैसे पूरी होती? डिजेस्ट्स या द्विनायक से!!!

कमजोर पक्ष:

  • आखिरी श्रंखला की यह तीसरी कॉमिक है, लेकिन अब तक उस मुख्य घटना से रूबरू नहीं करवाया गया जिसकी वजह से 3 कॉमिक्स छप चुकी हैं। मतलब अभी तक प्रस्तावना भी ढंग से पूरी नहीं की गयी।
  • कहानी अब 73 पृष्ठों की हो चुकी है और अब तक ये पता नहीं चला है की परमाणु और ध्रुव ने ऐसा क्या किया था की 3 कॉमिक्स निकलनी पड़ गयी।
  • "इधर चला में उधर चला, जाने कहाँ में किधर चला !!!" परमाणु अपने साथ कारा और ध्रुव को लेकर ऐसा ही कुछ कर रहा है। खैर अच्छा है की अभी तक फिसले नहीं।
  • पिछले भागों में परमाणु ध्रुव को साथ ले जाने के लिए ऊर्जा शटल का इस्तेमाल करता हुआ दिखाया गया था, जबकि इस भाग में तीनो परमाणु, कारा और ध्रुव बातें करते करते कहीं भी पहुँच जाते हैं।
  • मैकट्रीयम्स पहाड़ियों में फंसकर मारे गए जबकि वह उड़ सकते थे। मरना तो दूर फंसने का भी कोई तुक नहीं बनता।
  • ब्रह्माण्ड योद्धा की टैगलाइन: परमाणु को उसकी भूल की सजा देने के लिए अब पृथ्वी पर अवतरित हो रहे हैं विभिन्न ग्रहों के ब्रह्माण्ड योद्धा। खैर अवतरित हुए तो सही लेकिन कब जब कॉमिक समाप्त होने वाली थी, जब कॉमिक्स के केवल 4 पृष्ठ बचे थे तब। लकिन फिर भी किसी ब्रह्माण्ड योद्धा के दर्शन नहीं हुए।
  • पाठक संतुष्ट हो जाता है बस एक अच्छी कॉमिक पढ़कर, लेकिन मुझे नहीं लगता वैसी कोई संतुष्टि इस श्रृंखला के तीनो भागों को पढ़ने के बाद भी किसी को हुई होगी। इस कॉमिक में संतुष्टि का अभाव है।

 सकारात्मक पक्ष:-

  • 'मक़बरा' और 'तक्षक' के बाद एक बार फिर से गगन और विनाशदूत को नार्मल कॉमिक्स (सर्वनायक के अलावा) में देखकर अच्छा लगा। यानी राज कॉमिक्स टीम अब पुराने पात्रों को पूरी तरह से वापस लाने का मन बना चुकी है।
  • चाहे कुछ भी हो लेकिन नागराज की एंट्री और उसकी भूमिका हमेशा जबरदस्त होती है। सटीक समय पर नागरसी के एंट्री तो बढ़िया थी, अब नागराज आकर क्या करता है और कैसे इस सब से निपटता है ये देखना दिलचस्प होगा। 


तो सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का दारोमदार अब विश्व रक्षक के कन्धों पर आन पड़ा है। इंतज़ार रहेगा अगले भाग यानी "विश्व रक्षक" का। अगला भाग शायद पिछली कमिओं को पूरा कर सके।


Review Brahmand Yoddha Pic - 3Your Ratings:                  



My Ratings: 3/5
RC Official Website Rating: N/A



 
Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

0 comments:

Post a Comment