Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Kshatipurti


   Review - Kshatipurti 

Your Ratings:            


Review Kshatipurti  - Pic 1
My Ratings: 4.5/5
RC Official Rating: N/A



Format: Printed
Issue No: SPCL-2587-H
Language: Hindi
Author: Nitin Mishra
Penciler: Hemant Kumar
Inker: Vinod Kumar, IshwarArt
Colorist: Bhakt Ranjan, Shadab, Sunil
Pages: 96
Price: Rs 90.00 





Story Kshatipurti:


The story begins from a school in Pakistan, where school children have imprisoned by the crusaders (Jehaadi). After death of Nagraj crusaders do not fear anyone. To protect the children Nagu come in Nagaraj's disguises and got trapped himself. Then Sudangi and Sheetnaag come but they also fail.


Scene 1: A Good-Nature Unknown Man in Kolkata with Naganand and Nagnath. He assumed the commands of a voice echoing in his head and is on an unknown journey.


Scene 2: Hiroshima, Japan- All major villains are sure about Nagraj's death. And now they are preparing to celebrate. But along with the celebration Supreme Hood wants to unite and gather all major terrorist leaders from all around the world.


Scene 3: Nitro (New International Terrorist Removal Organization) has been activated. Z label commandos of Nitro are ready to infiltrate terrorist camps and eliminate them.


Scene 4:
  Arabian Sea, In the starting of his journey Good-Nature Unknown Man is in front of the marine pirates boss Nadarg. Along with the other prisoners he is being transported to sell in the slave market of Baghdad. Nadarg is Nagdant actually, who had been living secretly for fear of Nagraj. To defending the slaves the Good-Nature Unknown Man collided with Nadarg with the help of Naganand and Nagnaath. On the instructions of the sound resonating in his mind he invokes the serpents by playing Snake Vina. With the help of Naganand, Nagnaath and other serpents he defeated Nadarg in this battle and uncage the slaves. The Slaves are now free only because of him, they give him a name -Masaya means An Angel Sent by God.


Scene 5:  Iraq-Syria Border, Nitro commandos Shango, Susan, Samayra and Tovoor infiltrates in terrorist camps. They eliminate all the terrorists and leave Baghdadi (Head Terrorist) alive. Baghdadi reached to his boss Paradox and Paradox offers him unbeatable Snake-Powers.


Scene 6:
In Nagdweep, Visarpi is disconsolate while remembering her past with Nagraj. To honor its commitment at the time of Nagraj's death, she is willing to go to the journey to end the terrorism.


Scene 7:
African Rainforest, The Good-Nature Unknown Man is now reached to the African Rainforest, in the heartland of Thodanga. Where he is caught by the tribal and taken to Thodanga. Thodanga is upset of his old age, weakness and aging of the body. The Good-Nature Unknown Man expressed his wish of fighting all alone against Thodanga.


Scene 8: Time magazine's headquarters New York, Khudabaksh who works there got a list of those who sponsor the crusader group(Jehaadi). But before publishing the list it gets attacked headquarters by Bagdadi with the help of Venom Force. Baghdadi burned Khudabaksh along with the disc. Sudangi tried to stop Baghdadi but in both Naag and Tantra powers Baghdadi dominates on Saudangi. Death was gradually moving towards Sudangi Suddenly he comes between Sudangi and Death. A Green-Man, using snakes to eliminate the enemies.

The only question on everyone's mind......... 

Is it Nagraj? 
But how? 
Nagraj is dead? 
Saboteur snakes (Dwansak Sarp) are coming out of the Hawthorn snake's (Naagfani Sarp) mouth and Hawthorn snakes resides only in Nagraj's body on this earth. 

To reply all the questions, Raj Comics presenting...............

Highly Poisonous Upcoming Comics- "Moat Ka Baazigar"



Review Kshatipurti :


Kshatipurti the 200th Title of Nagraj for which we had been waiting for two years. Firstly I would like to say, the name Kshatigrast is much reasonable for this comic. Let me tell you, at first the name of this comics was decided "Kshatigrast". But the readers wanted "Kshatipurti" as the name of the 200th comics of Nagraj.  On the request of readers, Raj Comics team renamed it to "Kshatipurti". 


The name "Kshatipurti" does not justify the comics. Have not seen any kind of Compensation(kshatipurti) anywhere in the entire comics. Whether it be the Nagraj or of terrorism. 
The story is good enough and the artwork is too fantastic. As expected by the readers. Nitin Mishra sir is showering embers from the pen. Work of Hemant sir is extremely commendable. Jointly good effort by the whole Raj Comics Team.



Weak Sides of the Comic :-

  • Chapter 00: The Quest begin, Chapter 00 the first time I've heard. Of course everything comes from zero. But, it is always shown with one. The counting always begin from 1 not from zero. I think its caused accidentally, here Chapter 01 was supposed to be.
  • Nitro commandos Susan and Samayra were brought captive to terrorist camp. But when they freed, from where did they get their dress?
  • Despite of having Gem(Naagmani), Nagu was shown very weak but in actual he is not. Many times he helped Nagraj in worst and critical moments.


Strong Sides of the Comic :-


  • The story is very interesting and exciting. Drawing, Inking, Coloring everything is perfect 4.5/5
  • The comics is completely fresh. Nothing is repeated. You will not realize at all, when you have reached the last page. The comics is full of action, emotion, drama, thrill, adventure, mystery and especially  suspense.
  • Green page to be in the comics is a big plus in my view.
  • No matter how much powerful is he, how amazing are his powers. After all, he is a human being and he's not beyond death. Nitin Mishra sir has shown this fact in a very excellent way. He tried to bring the reality in the story. Now in what way he bring back Nagraj, this would be interesting and worth watching.

Sure, you should read the very best comics.




Scroll Down to Read in Hindi


Review Kshatipurti  - Pic 2



कहानी सार क्षतिपूर्ति:


कहानी शुरू होती है पाकिस्तान के एक स्कूल से जहाँ बच्चों को जेहादियों द्वारा बंदी बना लिया गया है। नागराज की मौत के बाद अब उन्हें किसी का खौफ नहीं। नागु नागराज का रूप लेकर बच्चों को बचाने पहुँचता है और खुद फंस जाता है। फिर सौडांगी और शीतनाग आते है लेकिन वो भी असफल होते हैं।

दृश्य 1:  एक नेकदिल अनजान शख्स कोलकत्ता में नागानन्द और नागनाथ के साथ। वो शख्स अपने दिमाग में गूंजती आवाज की निर्देश मान कर एक अनजान सफर की शुरुआत पर है।

दृश्य 2:  हिरोशिमा जापान, नागराज के सभी पुराने और खतरनाक दुश्मनों को अब नागराज की मोैत का पूरा यकीन हो चुका है और अब वो नागराज की मोैत का जश्न मनाने की तैयारी कर रहे हैं। लेकिन सुप्रीम हुड जश्न क साथ-साथ दुनिया भर के तमाम बड़े आतंकी सरगनाओं को इकठ्ठा और एकजुट करना चाहता है।

दृश्य 3:  नाइट्रो (न्यू इंटरनेशनल टेररिस्ट रिमूवल आर्गेनाइजेशन) सक्रिय हो चुकी है। नाइट्रो के जेड लेबल ट्रैंड कमांडोज़ आतंकवादी कैंपो में घुसपैठ कर उन्हें निस्तेनाबूत करने के लिए तैयार हैं।

दृश्य 4:  अरेबियन सी, वो नेकदिल अनजान शख्स जो खुद से ही नावाकिफ है अपने सफर की  शुरुआत में जा पहुंचा है समुंदरी दस्युओं के आका नादार्ग के जहाज पर। जहाँ उसे अन्य लोगों के साथ बंदी बनाकर गुलामों के बाज़ार में बेचने ले जाया जा रहा है। नादार्ग असल में नागदंत है जो की नागराज के डर से छिप कर रह रहा था। पकडे गए लोगों के बचाव हेतु वो अनजान शख्स नागानन्द और नागनाथ की मदद से टकरा जाता है नादार्ग से। वह अपने दिमाग में गूंजती आवाज के निर्देशों पर बीन बजा कर नागों का आह्वान करता है और इस लड़ाई में नादार्ग को पराजित कर बंदियों को आज़ाद करवाता है। उसकी वजह से आज़ाद हुए गुलाम उसे एक नाम देते है, मसाया यानि ईश्वर का भेजा देवदूत।

दृश्य 5:  इराक सीरिया बॉर्डर पर आतंकवादी कैंपो में नाइट्रो के कमांडोज़ शांगो, सुसन, समायरा और टोबोर घुसपैठ करते हैं। और बगदादी को छोड़ सभी आतंकियों को खत्म कर देते हैं। बगदादी को उसका आका पैराडॉक्स नागशक्तियां प्रदान करता है।

दृश्य 6:  नागद्वीप पर विसर्पी नागराज के साथ अपने बीते अतीत को याद करती हुई ग़मगीन है। मरते वक़्त नागराज को दिए अपने वचन का पालन करने हेतु विसर्पी आतंकवाद के अंत के सफर पर जाने को तैयार है।

दृश्य 7:  अफ्रीकन रैनफोरेस्ट, वो नेकदिल अनजान शख्स अब जा पहुंचा है अफ्रीका के जंगलों यानी थोडांगा के गढ़ में। जहाँ उसे कबीले वालों द्वारा पकड़ कर थोडांगा के समक्ष ले जाया जाता है। थोडांगा अपनी बढ़ती उम्र, कमजोरी और बूढ़े होते शरीर से परेशान है। थोडांगा के समक्ष पहुँच कर वो नेकदिल शख्स थोडांगा से बिलकुल अकेले लड़ने की ख्वाइश जाहिर करता है।

दृश्य 8:  न्यूयॉर्क -क्रोनिक टाइम मैगज़ीन के हेडक्वार्टर्स में काम करने वाले खुदाबख्श के हाथ लग गयी है जेहादी ग्रुप को स्पोंसर करने वालों की सूची। लेकिन इस सूची को प्रकाशित करने से पहले बगदादी वेनोम फ़ोर्स की मदद से मुख्यालय पर हमला कर देता है।बगदादी को मिली नाग-शक्तिओं ने उसे और भी क्रूर और खतरनाक बना दिया है। बगदादी खुदाबख्श को उस डिस्क के साथ जला देता है। बगदादी को रोकने पहुंचती है सौडांगी लेकिन बगदादी नाग और तंत्र शक्तिओं दोनों में सौडांगी पर भारी पड़ता है। मोैत की और बढ़ती सौडांगी को थाम लेती हैं दो भुजाएं, मज़बूत और हरी भुजाएं।

क्या ये नागराज है जो सौडांगी को थामे हुए है?
अगर हाँ तो कैसे? नागराज तो मर चुका है?
नागफनी सर्पों के मुह से ध्वंसक सर्प निकल रहे है और इस धरती पर नागफनी सर्प केवल नागराज के शरीर में वास करते हैं। 
तमाम सवालों जबाब लेकर आ रही है...........
राज कॉमिक्स की आगामी बेहद ज़हरीली पेशकश- "मोैत का बाज़ीगर"

समीक्षा:


क्षतिपूर्ति नागराज की 200वीं कॉमिक्स जिसका इंतज़ार पिछले दो सालों से किया जा रहा था। सबसे पहले मैं कहना चाहूंगा की, इस कॉमिक का नाम "क्षतिग्रस्त" ही उचित था। पाठकों को बता दूँ की इस कॉमिक्स का नाम पहले "क्षतिग्रस्त"रखना तय हुआ था। मगर पाठक चाहते थे की नागराज की 200वीं कॉमिक्स का नाम "क्षतिपूर्ति" हो। तो पाठकों के अनुरोध पर राज कॉमिक्स टीम ने इसका नाम बदलकर "क्षतिपूर्ति" रख दिया। क्षतिपूर्ति ये नाम इस कॉमिक्स के अनुरूप नहीं है। इस पूरी कॉमिक्स में कहीं भी किसी भी तरह की क्षतिपूर्ति होती हुई नहीं दिखाई दी। फिर चाहे वो नागराज की हो या आतंकवाद की।

कहानी काफी बढ़िया है, आर्टवर्क शानदार है। क्षतिपूर्ति से जैसी उम्मीद पाठकों को थी ये उस पर खरी उतरी है। नितिन मिश्रा जी की कलम से अंगारे बरस रहे हैं। हेमंत जी का कार्य भी बेहद सराहनीय है। पूरी राज कॉमिक्स टीम द्वारा संयुक्त रूप से एक अच्छा प्रयास।


कॉमिक्स के कमजोर पक्ष:

  • चैप्टर 00: दी क्वेस्ट बिगिन, चैप्टर 00 ये मैंने पहली बार सुना है। मुझे लगता है हर चीज़ शुरू बेशक 0 से ही होती है लकिन उसे दर्शाया हमेशा 1 से जाता है। गिनती हमेशा एक से शुरू होती है, शून्य से नहीं।
  • नाइट्रो के कमांडोज़ सुसान और समायरा बंदी बना कर आतंकबादी कैंप लायी गयी थी। आज़ाद हो कर उनको उनकी ड्रेस कहाँ से मिली?
  • मणि होने के बावजूद नागु काफी कमजोर दिखाया गया है जबकि वो है नहीं। काफी बार उसने नागराज की एहम और नाजुक परिस्तिथिओं में मदद की है।


कॉमिक्स के सशक्त पक्ष:


  • कहानी बेहद दिलचस्प और रोमांचक है। चित्रांकन और रंग सज्जा भी बेहतरीन है 4.5/5 ।
  • कॉमिक्स में पूरी तरह से नयापन है। कोई भी चीज़ दोहराई नहीं गयी। जिसे पढ़ते वक़्त बोरियत महसूस हो। आपको बिलकुल भी एहसास नहीं होगा की कब आप अंतिम पृष्ठ पर पहुँच गए । कहानी में एक्शन, इमोशन, ड्रामा, थ्रिल, एडवेंचर, मिस्ट्री सब मौजूद है और खासकर सस्पेंस।
  • ग्रीन पेज का इस कॉमिक्स में होना 1 बड़ा शसक्त पक्ष है मेरी नजर में।
  • चाहे कितना भी बलशाली सही, चाहे कितनी भी अदभुत शक्ति का स्वामी क्यों न हो। पर आखिर है तो वो भी एक इंसान, वो भी मृत्यु से परे नहीं। नितिन मिश्रा जी ने कहानी में बहुत ही बढ़िया तरीके से ये दिखाया है। कहानी में वास्तविकता लाने की कोशिश की है। अब नागराज की वापसी वो किस तरह से करवाते हैं, ये देखने लायक होगा। 

एक बेहतरीन कॉमिक्स आपको ज़रूर पढ़नी चाहिए।


Review Kshatipurti  - Pic 3

Your Ratings:    
             



My Ratings: 4.5/5
RC Official Rating: N/A








Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

0 comments:

Post a Comment