Breaking News New

 03 Oct  End Game Dhruva:  is Released on Raj Comics Android App... 

Review Flashback

Review - Flashback


Your Ratings:                  


Review Flashback - Pic 1
My Rating: 4.5/5 
RC Official Rating: 4.6/5



Format:       Printed 
Issue No:   SPCL-2583-H
Language:  Hindi 
Author:      Anupam Sinha 
Penciler:     Anupam Sinha
Inker:        Vinod Kumar 
Colorist:     Shadab, Basant 
Pages:       96 
Price:         Rs 90.00
        

Flashback, a memorable comic of a great series. A fantastic story by Mr. Anupam Sinha. Despite having the abundance of characters perfectly justice with each character. The story is refreshing. Action, emotion, drama, comedy, suspense everything is present in the comic and shown very well. Flashback refreshes the memories of 90's.

Certain things of the comics which have made it even more special:

  • The magic and the powers of Giligili appropriately described by the writer. Giligili is shown as a ordinary man rather then a supernatural. Which can be easily understood.
  • The mentally and physically fight between Dhruv and Giligili is quite exciting and appreciable.
  • The little Dhruv is very cute and clever too.
  • And the biggest thing, the return of Jupiter Circus characters. The story of Dhruva's past and the entry of his mother. Which will surely liked by every fan.

 

Weak side of the comic in my view:

  • Mr. Anupam Sinha's love towards Chandika got to see once again. Natasha become Chandika understandable, but the twist of Twisty felt meaningless.
  • Will have to do a little more work on drawing especially on the female characters. Female characters should featured according to their age. At least the reader can distinguish between the mother and sister.


Overall one of the best comic as every reader expects from Mr. Anupam Sinha. Worth for your money, you will want to read it again and again. I sure you will be in the flashback.

समीक्षा फ्लैशबैक बालचरित श्रृंखला


Review Flashback - Pic 2
फ्लैशबैक एक यादगार श्रृंखला की एक यादगार कॉमिक। श्री अनुपम सिन्हा जी की कलम से निकली एक शानदार गाथा। किरदारों की भरमार होने के बावजूद भी हर किरदार के साथ बख़ूबी न्याय किया गया है। कहानी में नयापन है। एक्शन, इमोशन, ड्रामा, कॉमेडी, सस्पेंस कॉमिक में सब मौजूद है और बेहतरीन ढंग से दिखाया गया है फ्लैशबैक पढ़ कर 90 के दशक की यादें ताजा हो गई। 


इस कॉमिक्स की कुछ बातें जिन्होंने इसे और भी ख़ास बना दिया:


  • गिलिगिली के जादू और उसकी शक्तिओं का उचित वर्णन किया गया है। उसे अलौकिक नहीं बल्कि एक आम इंसान की तरह से दर्शाया गया है। जो की आसानी से हजम किया जा सकता है। 
  • गिलिगिली और ध्रुव के बीच दिखाई गई शारीरिक एवम मानसिक लड़ाई काफी रोमांचक और सराहनीय है। पूरी लड़ाई में कहीं भी ध्रुव को जबरदस्ती जीतता हुआ नहीं दिखाया गया।  
  • बचपन का ध्रुव, बहुत ही प्यारा और चालाक छोटा ध्रुव।
  • सबसे बड़ी बात जुपिटर सर्कस के किरदारों की वापसी, ध्रुव के अतीत की कहानी और सबसे अहम ध्रुव की माँ का प्रवेश जो की हर प्रशंसक को सो प्रतिशत पसंद आएगा।  

 

इस कॉमिक के कुछ कमज़ोर पक्ष मेरी नजर में:

  • अनुपम जी का चण्डिका प्रेम एक बार फिर से देखने को मिला, श्वेता क कोमा में होने क बावजूद 2-2 चण्डिका दिखीं। नताशा का चण्डिका बनना तो समझ में आता है, परन्तु ट्विस्टी का ट्विस्ट बेमतलब लगा।
  • चित्रकारी में खासकर महिला किरदारों पर थोड़ा काम और करना होगा। महिला किरदारों को उनकी उम्र के हिसाब से चित्रित करना चाहिए। कम से कम माँ और बहन में फर्क तो दिखे।     

कुल मिलकर एक बेहतरीन कॉमिक जैसा की हर पाठक अनुपम सिन्हा जी से उम्मीद करता है। पूरे पैसे वसूल, आप इसे बार-बार पढ़ना चाहेंगे। दोस्तों आज ही पढ़ें बालचरित भाग -2 'फ्लैशबैक'। आपका सचमुच फ्लैशबैक हो जाएगा। 

Review Flashback - Pic 3



Your Ratings:                  




Share on Google Plus
Author-avatar

Hi Friends,
To reach the entire world Our Desi Heroes need your support.
Share This ---- As Much As You Can.
Keep the JANNON alive

 
Subscribe Us via Email :
    Blogger Comment  
    Facebook Comment  

0 comments:

Post a Comment